म्यूनिख: विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शनिवार को म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन से इतर अमेरिकी प्रतिनिसभा सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी से मुलाकात करने के बाद कहा कि भारत-अमेरिका संबंधों के प्रति उनका ‘निरंतर’ सहयोग उसे मजबूती प्रदान करने वाला एक बड़ा स्रोत रहा है. जयशंकर इस प्रतिष्ठित सुरक्षा सम्मेलन के लिए शुक्रवार को यहां पहुंचे थे. सम्मेलन में वैश्विक चिंता के विभिन्न मुद्दों पर उनके द्वारा भारत का विचार रखे जाने की उम्मीद है.

विदेश मंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘ प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष पेलोसी से मिलकर बहुत खुशी हुई. भारत-अमेरिका संबंध के प्रति उनका निरंतर सहयोग उसे मजबूती प्रदान करने वाला एक बड़ा स्रोत रहा है.’’ जयशंकर ने शुक्रवार को सम्मेलन इतर संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत केली नाइट क्राफ्ट से मुलाकात की थी.

म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा नीति पर चर्चा के लिए विश्व का एक प्रमुख मंच है. यह सम्मेलन 14 से 16 फरवरी तक चलेगा.

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनकी पत्नी मेलानिया ट्रंप प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के न्यौते पर 24-25 फरवरी को भारत की राजकीय यात्रा करेंगे. इस यात्रा के दौरान वह नयी दिल्ली के अलावा अहमदाबाद जायेंगे और वहां नवनिर्मित स्टेडियम में मोदी के साथ एक जनसभा को संबोधित करेंगे.

अपनी पहली भारत यात्रा पर आ रहे ट्रंप दोनों देशों के बीच व्यापार संबंध को और गहरा बनाने की कोशिश के तहत नयी दिल्ली में देश के शीर्ष कारोबारियों के साथ बैठक करेंगे. म्यूनिख में सुरक्षा सम्मेलन के मौके पर जयशंकर ने जर्मन राष्ट्रपति फ्रैंक वाल्टर स्टीनमीयर और आर्मेनिया के विदेश मंत्री जोहराब मनतसाकयान समेत विश्व के कई नेताओं से भेंट की, जो इस सम्मेलन में हिस्सा ले रहे हैं.

(इनपुट भाषा)