नई दिल्लीः इस समय पूरी दुनिया कोरोना वारयस की चपेट में है और हर देश इससे अपने नागरिकों को बचाने की कोशिश में लगा हुआ है. कोरोना वायरस की वजह से ईरान की राजधानी तेहरान में फंसे लोगों को भारत लाने का काम जारी है. रविवार को चौथे बैच में 53 लोगों को भारत लाया गया. इसमें 52 स्टूडेंट्स और एक टीचर है. इस सभी लोगों को महान एयरलाइंस के द्वारा लाया गया. Also Read - Coronavirus के खिलाफ जंग में भारत को बड़ी सफलता, तैयार की ये किट

भारत सरकार ने भी कई देशों से अपने नागरिकों को निकालने का शुरू कर दिया है. भारत ने ईरान, इटली, चीन जैसे कई देशों से अपने नागरिकों स्वदेश ले आई है. विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ट्वीट करके जानकारी देते हुए कहा कि भारत ने अब तक ईरान से कुल 389 भारतीयों की वापसी की है. सोमवार की सुबह तेहरान से आने वाले सभी नागरिकों को आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है. Also Read - कई चरणों में लॉकडाउन हटाने की तैयारी में राजस्थान, मुख्यमंत्री ने दिए संकेत

भारत में कोरोना के मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है. अब तक 110 मामलों की पुष्टि हो चुकी है. आपको बता दें कि कोरोना मामले को लेकर भारत दुनिया के कई बड़े देशों के साथ लगतार संपर्क बनाए हुए है. रविवार को विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अमेरिका में अपने समकक्ष माइक पोम्पिओ से भी बात की. दोनों लोगों ने दुनिया में बढ़ रहे कोरोना के खतरे को कम करने के लिए उपायों पर बात की.

इससे पहले रविवार की सुबह एयर इंडिया के विमान से 236 लोगों को राजस्थान के जैसलमेर लाया गया था. इन सभी लोगों को 15 दिन के लिए आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है. कोरोना के खतरे के कारण  कई राज्यों ने तो इस वायरस के प्रकोप को देखते हुए स्कूलों, कॉलेजों सहित सार्वजनिक संस्थानों, जैसे सिनेमा हॉल और मार्केट्स को भी बंद करने के आदेश दे दिए हैं, ताकि इसके फैलने की संभावनाओं को कम किया जा सके, लेकिन इसके बाद भी देश में लगातार कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है. इस वायरस से प्रभावित मामलों में सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र (Maharashtra) से हैं जहां अभी तक 32 मामले सामने आ चुके हैं.