पणजी: राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के विधायक और गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री चर्चिल अलेमाओ ने कहा कि गोवा के लोगों को मॉनसून के दौरान मछली खाना छोड़ देना चाहिए. उन्होंने कहा कि प्रदेश में तमिलनाडु और आंध्रप्रदेश से लाई जाने वाली मछलियों पर फॉर्मेलिन का लेप लगा होता है.

अलेमाओ ने पणजी से 35 किलोमीटर दूर दक्षिण गोवा के शहर मरगांव में एक प्रेसवार्ता में कहा, “गोवा के कोल्ड स्टोरेज में पहले से ही फॉर्मेलिन का लेप लगी मछलियां काफी मात्रा में रखी हुई हैं. मॉनसून के दौरान जून और जुलाई में मछली न खाएं. यह व्यक्तिगत आग्रह है. गोवा में बिकने वाली मछलियों पर लेप लगा हुआ है.”

अलेमाओ ने कहा कि गोवा में ज्यादातर मछलियां तमिलनाडु और आंध्रप्रदेश से मंगाई जाती हैं, जहां कोल्ड स्टोरेज की सुविधाएं कम हैं. इसलिए गोवा भेजने से पहले उन पर फॉर्मेलिन का छिड़काव किया जाता है, क्योंकि वहां से सड़क मार्ग से मछलियां लाने में 48 घंटे लगते हैं. हालांकि स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे ने इस आरोप का खंडन करते हुए दावा किया है कि प्रदेश में आसपास के इलाकों से लाई जाने वाली मछलियों की जांच खाद्य व ड्रग्स प्रसाशन की टीम करती है.