नई दिल्लीः मध्य प्रदेश की राजनीति में आए अचानकर बदलाव और सरकार के 20 मंत्रियों के इस्तीफे के बाद इस पूरे घटना क्रम पर राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा है कि इससे किसी भी तरह का भाजपा का कोई लेना देना नहीं है. उन्होंने कहा कि यह कांग्रेस पार्टी का खुद का मामला है और इस मसले से खुद को और पार्टी को अलग करते हुए कांग्रेस की अंदरूनी कलह को इसका जिम्मेदार ठहराया है. Also Read - मध्य प्रदेश : मुख्यमंत्री की रेस में शिवराज सिंह सबसे आगे, आज शाम ही ले सकते हैं शपथ

राज्य की तीन बार कमान संभाल चुके शिवराज सिंह ने कहा कि भाजपा में सरकार गिराने के आरोप पूरी तरह से बेबुनियाद हैं भाजपा का इसमें किसी भी तरह का कोई इंट्रेस्ट नहीं है. पूर्व सीएम ने शिवराज ने ज्योतिरादित्य सिंधिया के पिता माधवराव सिंधिया की जयंती पर उन्हें नमन किया. अपनी बात रखने से पहले पार्टी के दिग्गज नेता शिवराज सिंह ने कहा कि सबसे पहले आप सभी को होली की हार्दिक शुभकामनाएं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस को आरोप लगाने की जगह पार्टी पर ध्यान लगाना चाहिए. Also Read - भाजपा में शामिल हुए कांग्रेस छोड़ने वाले MP के 21 पूर्व विधायक, विशेष विमान से भोपाल पहुंचे

बता दें कि सोमवार देर रात को मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार के सभी 20 मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया. मु्ख्यमंत्री कमलनाथ ने सभी मंत्रियों का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है. जिसके बाद अब कमलनाथ को नए मंत्रिमंडल के गठन का अधिकार मिल गया है. अपने आधिकारिक बयान में सीएम कमलनाथ ने कहा कि माफिया के सहयोग से अस्थिर करने वाली ताकतों को सफल नहीं होने दूंगा.