गांधीनगर: गुजरात के पूर्व मुख्‍यमंत्री व हाल ही में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के पूर्व महासचिव शंकर सिंह वाघेला शनिवार को कोरोनोवायरस से संक्रमित निकले. कल उनकी जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. वह अपने घर में ‘सेल्फ क्वारंटीन’ में हैं. वाघेला को 3-4 दिनों से बुखार था. Also Read - Indian Railways/IRCTC Train Update: अब हर दिन नहीं चलेंगी ये खास ट्रेनें, रेलवे ने कुछ स्पेशल ट्रेनों के फेरे बढ़ाए, यहां देखें पूरी लिस्ट

बता दें वाघेला अपने लंबे राजनीतिक जीवन में कई दलों में रहे. वह जनसंघ के दिनों से ही भाजपा के साथ थे. वह 1996 में भाजपा का विभाजन करने के बाद मुख्यमंत्री बने. उन्होंने 1997 में अपनी पार्टी का कांग्रेस में विलय कर दिया था. इसके बाद हाल ही में उन्‍होंने एनसीपी से इस्‍तीफा दिया है. Also Read - SaNOtize : कोरोना वायरस से खिलाफ भारत की जंग में गेम चेंजर साबित हो सकता है ये नाक में डालने वाला स्प्रे

समर्थकों के बीच ‘बापू’ के नाम से मशहूर वाघेला ने सोमवार को अपने पद से इस्तीफा देने के साथ-साथ शरद पवार के नेतृत्व वाली पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया था. वह अपने स्थान पर जयंत पटेल (बोस्की) के चयन से निराश थे. उन्होंने गुजरात में राकांपा के एकमात्र विधायक कांधल जडेजा को राज्यसभा चुनाव में भाजपा को वोट देने पर नाराजगी जताई थी. पूर्व मुख्यमंत्री (79) ने कहा कि वह अपने समर्थकों की इच्छा का सम्मान करेंगे और सार्वजनिक जीवन में बने रहेंगे. Also Read - ममता बनर्जी ने PM नरेंद्र मोदी को लिखा खत, कहा- ऑक्सीजन की आपूर्ति करें, वरना लोगों की चली जाएगी जान

वाघेला ने ‘प्रजा शक्ति मोचरे’ नाम से अपनी नई राजनीतिक पार्टी बनाई है, जो पिछले कुछ दिनों से डीजल के बढ़ते दाम को लेकर आवाज उठा रही है. वाघेला 1996 में गुजरात के मुख्यमंत्री रह चुके हैं.

बता दें वाघेला अपने लंबे राजनीतिक जीवन में कई दलों में रहे. वह जनसंघ के दिनों से ही भाजपा के साथ थे. वह 1996 में भाजपा का विभाजन करने के बाद मुख्यमंत्री बने. उन्होंने 1997 में अपनी पार्टी का कांग्रेस में विलय कर दिया था. इसके बाद हाल ही में उन्‍होंने एनसीपी से इस्‍तीफा दिया है.