चंडीगढ़: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी तहरीक-ए-इंसाफ के पूर्व हिंदू विधायक बलदेव कुमार ने भारत सरकार से   राजनीतिक शरण मांगी है. उन्होंने कहा, “पाकिस्तान में अल्पसंख्यक सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं और उन्हें उनके अधिकारों से वंचित रखा जा रहा है. उन पर अत्याचार बढ़ता रहा है और उनकी हत्या की जा रही हैं. मुझे दो साल जेल में रखा गया. वे लगभग एक महीने से पंजाब के नगर खन्ना में अपनी ससुराल में अपनी पत्नी भावना और दो बच्चों के साथ रुके हुए हैं.

ट्रेन में लोकसभा अध्‍यक्ष के साथ हुआ ये वाकया, पुलिस बुलाकर 5 लोगों को भिजवाना पड़ा जेल

कुमार (43) ने कहा कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर मुकदमें चलाए जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि वहां हिंदू और सिख नेताओं की हत्याएं की जा रही हैं. पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के पूर्व विधायक ने पड़ोसी देश में अल्पसंख्यकों से उनके अधिकार छीने जाने का आरोप लगाते हुए भारत में शरण मांगी है.

अमेरिका जा रहे 81 साल के बूढ़ेे की एयरपोर्ट पर खुली पोल, सामने आया 32 साल का ये जवान

बलदेव कुमार (43) अपनी पत्नी और दो बच्चों के साथ पिछले महीने भारत आए थे और अभी वे पंजाब के लुधियाना जिले में हैं. उन्होंने कहा, “मेरे भाई वहां (पाकिस्तान में) हैं. कई सिख और हिंदू परिवार भारत आकर बसना चाहते हैं. गुरुद्वारों की स्थिति खराब है. अल्पसंख्यकों का कोई सम्मान नहीं है. हाल ही में एक सिख लड़की को जबरन मुस्लिम बनाने का मामला प्रकाश में आया था.

कुमार ने खन्ना में मंगलवार को पत्रकारों से कहा, उन्होंने कहा, “मैं यहां पूरे होशो-हवास में आया हूं. मैं (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) मोदी साब से मुझे शरण और सुरक्षा देने का आग्रह करता हूं.”

भारत आने की वजह पूछने पर कुमार ने कहा, ” सारी दुनिया पाकिस्तान की मौजूदा स्थिति देख रही है. हमें उम्मीद थी कि
(प्रधानमंत्री इमरान खान) खान साहब के सत्ता में आने के बाद पाकिस्तान की किस्मत बदलेगी. ” उन्होंने दावा कि इमरान ऐसा करने में नाकाम रहे हैं.

कुमार ने कहा, आप स्थिति (पाकिस्तान की) देख रहे हैं और मैं भी वही देख रहा हूं. उस दिन हमारी सिख लड़की का
अपहरण कर लिया गया. ऐसी चीजें नहीं होनी चाहिए.

VIDEO: मंत्री ने दी छात्रों को सीख, कहा- कलेक्‍टर, एसपी की कॉलर पकड़ो, बन जाओ बड़े नेता

बता दें कि पाकिस्तान के पंजाब प्रांत से एक ग्रंथी की बेटी का अपहरण कर लिया गया था. लड़की के परिवार ने आरोप
लगाया था कि एक मुस्लिम व्यक्ति से शादी कराने से पहले बंदूक का डर दिखा उसे इस्लाम कबूल कराया गया था. लड़की के
परिवार का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था.

कुमार ने कहा, क्या पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों को अधिकार मिल रहे हैं, ऐसा होता तो स्थिति ऐसी नहीं होती. उन्होंने कहा कि उन्होंने अपने परिवार के अन्य सदस्यों से भी पाकिस्तान छोड़ने का आग्रह किया है.

VIDEO: विधायक ने डिप्‍टी कमिश्‍नर से कहा- यह तुम्हारे बाप का ऑफिस नहीं है…फिर आगे हुआ ये

कुमार ने कहा कि सिंध और ननकाना साहिब में कई परिवार हैं, जिन्होंने उनसे कहा है कि उन्हें भारत में शरण मिलने पर वे
भी पाकिस्तान छोड़ने की कोशिश करेंगे. कुमार पाकिस्तान में खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के बारिकोट सीट से प्रांतीय विधानसभा के पूर्व सदस्य हैं. उनके अनुसार, वे भारत ईद (11 अगस्त) के दिन पहुंचे थे.

भारत ने जबरन धर्म परिवर्तन के मामलों के खिलाफ चिंता जाहिर की है और पड़ोसी देश से इन मामलों से निपटने के लिए
सुधारात्मक कार्रवाई करने को कहा है.

जहां छाया रहता है नक्‍सलियों का खौफ, वहां की यह लड़की बनी पहली आदिवासी महिला पायलट