नई दिल्ली: अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में भर्ती पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की सेहत में सुधार हुआ है और उनकी कोविड-19 की जांच में संक्रमण नही पाया गया है. एम्स सूत्रों ने सोमवार को यह जानकारी दी. उनको नयी दवा के कारण रिएक्शन और बुखार होने के बाद रविवार रात एम्स में भर्ती कराया गया था. 87 वर्षीय सिंह को एम्स के कार्डियो-थोरैसिक (हृदय और सीने से संबंधित) सेंटर में चिकित्सकों की निगरानी में रखा गया है. Also Read - महाराष्‍ट्र में आज कोरोना से रिकॉर्ड मौतें, मृतकों का आंकड़ा 2100 के पास

पूर्व प्रधानमंत्री से जुड़े सूत्रों का कहना है कि उनकी सेहत सोमवार को ‘बेहतर’ है और दिन के समय में उन्हें बुखार नहीं आया. उन्होंने बताया कि सिंह की कई तरह की जांच की गई है जिनमें से कई की रिपोर्ट का अभी इंतजार है. सूत्रों ने बताया कि सिंह को एक-दो दिन के भीतर अस्पताल से छुट्टी मिल सकती है. एक सूत्र ने कहा, ‘‘कोरोना वायरस के संक्रमण की जांच के लिए नमूना लिया गया था और उसकी रिपोर्ट निगेटिव आई है.’’ Also Read - वीरेंद्र सहवाग ने किया कुछ ऐसा काम, भज्‍जी ने भी कहा- शाबाश लाला

इससे पहले एम्स सूत्रों ने बताया, ‘‘एक नयी दवा लेने के बाद रिएक्शन (फैब्राइल रिएक्शन) होने के कारण उन्हें भर्ती कराया गया था ताकि वह चिकित्सकों की निगरानी में रह सकें और उनकी जांच हो सके. बुखार के अन्य कारणों का पता लगाने के लिए जांच की जा रही है और उनकी जरूरी देखभाल की जा रही है.’’ Also Read - कोरोना का प्रभाव! वित्त वर्ष 2019-20 की चौथी तिमाही में 3.1 प्रतिशत रही देश की जीडीपी

सूत्रों के मुताबिक पूर्व प्रधानमंत्री की हालत स्थिर है और वह एम्स के कार्डियो-थोरैसिक सेंटर के चिकित्सकों की एक टीम की निगरानी में हैं. सिंह कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हैं और फिलहाल राजस्थान से राज्यसभा सदस्य हैं. वह 2004 से 2014 तक देश के प्रधानमंत्री रहे हैं. साल 2009 में उनकी एम्स में ही कोरोनरी बाईपास सर्जरी हुई थी. मनमोहन सिंह के अस्पताल में भर्ती होने की खबर मिलते ही कई नेताओं ने उनके स्वास्थ्य को लेकर चिंता जतायी और जल्द ठीक होने की कामना की.