नई दिल्ली: पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की सोमवार को आर्मी रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल में एक ब्रेन सर्जरी की गई. हालांकि ब्रेन सर्जरी के बाद भी उनकी हालत नाजुक बनी हुई है. मंगलवार को आर्मी अस्पताल ने ये जानकारी दी. पूर्व राष्ट्रपति मस्तिष्क में जमे खून के थक्के को हटाने के लिए की गई इस सर्जरी के बाद वेंटिलेटर सपोर्ट पर हैं. Also Read - पीएम मोदी का दुनिया को भरोसा- भारत की टीका उत्पादन क्षमता पूरी मानवता को इस संकट से बाहर निकालेगी

आज जारी अपने बयान में अस्पताल ने कहा, “पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को गंभीर हालत में 10 अगस्त को दिल्ली के आर्मी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उनके मस्तिष्क में जमे खून के थक्के को हटाने के लिए आपातकालीन सर्जरी की गई. सर्जरी के बाद वह वेंटिलेटरी सपोर्ट पर हैं और उनकी हालत गंभीर बनी हुई है. वे COVID-19 पॉजिटिव भी हैं.” Also Read - हज 2021 को लेकर आवेदन प्रक्रिया जल्द शुरू होगी, सऊदी अरब की गाइडलाइंस का इंतजार

बता दें कि सर्जरी से पहले 84 साल के मुखर्जी का कोरोनावायरस टेस्ट भी पॉजिटिव पाया गया था. Also Read - SP Balasubrahmanyam का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार, बड़ी संख्या में पहुंचे फैन्स

उन्होंने सोमवार को ट्वीट किया था, “एक अलग प्रक्रिया के लिए अस्पताल आया हूं और यहां मेरा कोविड-19 परीक्षण पॉजिटिव आया है. पिछले सप्ताह मेरे संपर्क में आए लोगों से मैं अनुरोध करता हूं कि वे स्वयं को आइसोलेट कर लें और कोविड-19 का परीक्षण कराएं.” बता दें कि लंबे राजनीतिक जीवन के दौरान मुखर्जी ने वित्त और रक्षा मंत्री जैसे पद भी संभाले. बाद में वे 2012 में देश के राष्ट्रपति बने और 2017 तक कार्य किया.