नई दिल्ली: पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को वित्तीय मामलों की संसदी की स्थायी समित के लिए मनोनीत किया गया है. मनमोहन सिंह राज्यसभा सदस्य के रूप में दोबारा निर्वाचित हुए हैं. वह अगस्त में राजस्थान से राज्यसभा के लिए निर्वाचित हुए.Also Read - 'जागो बांग्ला' में TMC ने कहा- कांग्रेस की ताकत 'खत्म', BJP से लड़ने को ममता बनर्जी ही विपक्ष का चेहरा

Also Read - चर्चित पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला कांग्रेस में हुए शामिल, विवादों को लेकर खूब रहे हैं सुर्खियों में

राज्यसभा की बुलेटिन के अनुसार, सभापति ने राज्यसभा के सदस्य डॉ. मनमोहन सिंह को वित्तीय मामलों की संसदीय समिति में दिग्विजय सिंह की जगह मनोनीत किया गया है. उनका मनोनयन छह नवंबर 2019 से प्रभावी है. सभापति ने राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह को भी शहरी विकास मामलों की समिति के लिए मनोनीत किया है और उनका भी मनोनयन 6 नवंबर 2019 से प्रभावी है. Also Read - राहुल गांधी का केंद्र पर बड़ा हमला, कहा- आंदोलन में जान गंवाने वाले 700 किसानों के परिजनों के बारे में सोचें पीएम, मुआवजा दें

बीजेपी को छोड़ NCP-कांग्रेस के साथ जाने को शिवसेना तैयार, ट्विटर पर क्यों छाए हैं बाला साहेब?

मनमोहन सिंह 1991 से 1996 के दौरान वित्तमंत्री भी रहे हैं. वह इस साल सितंबर में बतौर राज्यसभा सदस्य अपना कार्यकाल पूरा करने के बाद अवकाश प्राप्त करने से पहले सितंबर 2014 से लेकर मई 2019 तक इस समिति के सदस्य थे.

भारतीय जनता पार्टी के सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा 31 सदस्यीय इस समिति के अध्यक्ष हैं. बताया जाता है कि मनमोहन सिंह को वित्त मामलों की संसदीय समिति में शामिल करने के मकसद से ही दिग्विजय सिंह ने इस समिति से इस्तीफा दे दिया था.