नई दिल्ली: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार के लिए भाजपा मुख्यालय से निगम बोध घाट फूलों से सजी तोप गाड़ी में ले जाया गया. इससे पहले पूर्व वित्तमंत्री व बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के अंतिम दर्शन के लिए भाजपा मुख्यालय के बाहर लोग बड़ी संख्या में दिखाई दिए. उनके पार्थिव शरीर को निगम बोध घाट अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया. अंतिम संस्कार 2.30 बजे होने वाला है. इस समय पूरा माहौल ‘जेटली जी अमर रहें’ के नारों से गूंज रहा है. उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी नि‍गमबोध घाट पर पहुंच गए हैं. 

निगम बोध घाट की ओर से जाने वाली सड़कों पर जेटली को याद करने वाले पोस्टर लगे हुए हैं. इससे पहले दीनदयाल उपाध्याय रोड पर स्थित भाजपा मुख्यालय के बाहर सुरक्षा बढ़ा दी गई. भारी संख्या में पुलिस और अर्धसैनिक बलों की तैनाती की गई थी, जहां सुबह उनके पार्थिव शरीर को भाजपा मुख्यालय लाया गया, जहां बड़ी संख्या में लोग उनके अंतिम दर्शन करने के लिए पहुंचे.

एम्स में शनिवार को लंबी बीमारी के बाद जेटली का निधन हो गया, जिसके बाद उनके पार्थिव शरीर को दक्षिणी दिल्ली के कैलाश कॉलोनी स्थित उनके आवास में रखा गया था. केंद्रीय मंत्री अमित शाह, हर्षवर्धन, राजनाथ सिंह व पीयूष गोयल, झारखंड़ के मुख्यमंत्री रघुबर दास, भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जे.पी. नड्डा पार्टी मुख्यालय में दिवंगत नेता को श्रद्धांजलि देने वालों में शामिल थे.

पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार के लिए भाजपा मुख्यालय से निगम बोध घाट फूलों से सजी तोप गाड़ी में ले जाया जा गया है. इस समय पूरा माहौल ‘जेटली जी अमर रहें’ के नारों से गूंजता रहा है.

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि उनका अंतिम संस्कार दोपहर करीब 2:30 बजे पूरे राजकीय सम्मान से किया जाएगा. भाजपा कार्यकर्ता और शोकाकुल लोग सुबह से ही भाजपा मुख्यालय के बाहर जेटली को अंतिम श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए कतार में खड़े थे.