अहमदाबाद: गुजरात में राज्यसभा की चार सीटों पर 26 मार्च को होने वाले चुनाव से पहले राज्य में कांग्रेस के चार विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष राजेन्द्र त्रिवेदी को अपने इस्तीफे सौंप दिये, जिसके बाद कांग्रेस ने अपने कम से कम 24 विधायकों को रविवार को जयपुर भेज दिया. कांग्रेस ने कहा कि एक भी ‘‘ईमानदार’’ विधायक ने इस्तीफा नहीं दिया है, वहीं प्रदेश भाजपा अध्यक्ष जीतू वाघानी ने कहा कि यदि चार विधायकों ने वास्तव में इस्तीफा दिया है तो भाजपा राज्यसभा चुनाव में तीन सीटों पर जीत दर्ज करेगी. Also Read - कोरोना संकट: PM मोदी ने ऑल पार्टी मीटिंग कहा- देश में बढ़ाया जा सकता है लॉकडाउन

बाद में, कांग्रेस ने करीब 24 विधायकों को खरीद फरोख्त के भय से जयपुर भेज दिया. यह कदम ऐसे वक्त उठाया गया, जब विधानसभाध्यक्ष राजेंद्र द्विवेदी ने रविवार को इसकी पुष्टि की कि कांग्रेस के चार विधायकों ने शनिवार को अपने इस्तीफे दिये, जिन्हें स्वीकार कर लिया गया है. उन्होंने पीटीआई को बताया कि वह सोमवार को विधानसभा सत्र के दौरान विधायकों के नामों की घोषणा करेंगे. उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस के चार विधायकों ने शनिवार को मुझे अपने इस्तीफे सौंपे और मैं कल विधानसभा में उनके नामों की घोषणा करूंगा.’’ वाघानी ने कहा कि उन्हें घटनाक्रम के बारे में विधानसभाध्यक्ष द्वारा सूचित किया गया. Also Read - केंद्र सरकार पर कांग्रेस का आरोप, डर कर बदला दवा देने का फैसला, 1971 में इंदिरा गांधी ने दिया था करारा जवाब

वाघानी ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘त्रिवेदी ने कहा कि जिन विधायकों ने इस्तीफे दिये हैं उनके नाम सोमवार को विधानसभा में घोषित किये जाएंगे जिसका सत्र अभी चल रहा है. ऐसा प्रतीत होता है कि कांग्रेस के विधायकों ने इस्तीफे दिये हैं. इसका मतलब है कि भाजपा (आगामी राज्यसभा चुनाव में) तीन सीटें जीत रही है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस राज्यसभा चुनाव से अपने उम्मीदवार सोमवार तक वापस ले सकती है. राज्य सरकार में भाजपा के मंत्री कुंवरजी बावलिया ने दावा किया कि कांग्रेस के कई विधायक जो अपनी पार्टी से खुश नहीं हैं वे भाजपा के सम्पर्क में हैं. उन्होंने कहा कि ऐसे कई विधायक आगामी दिनों में भाजपा में शामिल हो सकते हैं. Also Read - कांग्रेस ने सांसदों के वेतन में कटौती का स्वागत किया, सांसद निधि बहाल करने की मांग

उन्होंने कहा, ‘‘राज्यसभा चुनाव की घोषणा के बाद, कांग्रेस के कई विधायक जो हमारे साथ सम्पर्क में थे, उन्होंने कहा कि वे (अपनी पार्टी से) खुश नहीं हैं. यहां तक कि वे विधायक भी भाजपा में शामिल होने की तैयारी कर रहे हैं जिनसे कांग्रेस आलाकमान (उन्हें गुजरात से बाहर भेजने के लिए) सम्पर्क नहीं कर सका.’’ कांग्रेस नेता परेश धनानी ने एक ट्वीट में कहा कि कांग्रेस के एक भी ‘‘ईमानदार’’ विधायक ने अभी तक इस्तीफा नहीं दिया है. चार विधायकों के इस्तीफे से 182 सदस्यीय गुजरात विधानसभा में कांग्रेस के विधायकों की संख्या 73 से कम होकर 69 हो गई है.

कांग्रेस ने राज्यसभा चुनावों से पहले सत्तारूढ़ भाजपा द्वारा खरीद-फरोख्त की आशंका के चलते अपने 14 विधायकों को शनिवार को जयपुर भेज दिया था. भाजपा ने चुनाव के लिए अभय भारद्वाज, रमीला बारा और नरहरि अमीन को मैदान में उतारा है. विधानसभा में विधायकों की संख्या को देखते हुए सत्ताधारी भाजपा राज्यसभा की दो सीटों पर जीत दर्ज कर सकती है, तीसरी सीट पर जीत दर्ज करने के लिए उसे क्रास वोटिंग कराना होगा या कांग्रेस विधायकों का दलबदल कराना होगा. वहीं, कांग्रेस ने अपने वरिष्ठ नेताओं शक्ति सिंह गोहिल और भरत सिंह सोलंकी को उम्मीदवार बनाया है.