पणजी: गोवा में 40 सदस्यीय विधानसभा में 17 सदस्यों के साथ बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बन गई है. मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा है कि वह गठबंधन के किसी भी सहयोगी को नहीं हटाएंगे. हाल में हुए उपचुनाव में जीत हासिल करने वाले चार नवनिर्वाचित विधायकों के शपथ लेने के साथ राज्य विधानसभा की सदस्य संख्या 40 हो गई है.

नई व्यवस्था में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी है, जबकि 2017 में स्थिति बिल्कुल उलट थी. तब विधानसभा चुनाव में भगवा पार्टी ने 13 और कांग्रेस ने 17 सीट जीती थीं.

सीडब्ल्यूसी ने राहुल गांधी के इस्तीफे की पेशकश ठुकराई, बाकी सब अफवाह: कांग्रेस

गोवा विधानसभा में सत्तारूढ़ भाजपा के 17 विधायक हैं. इनमें तीन नवनिर्वाचित विधायक और 2017 के चुनाव परिणाम के बाद कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए विश्वजीत राणे भी शामिल हैं. सदन में कांग्रेस के 15 सदस्य हैं.

कांग्रेस छोड़कर बीजेपी से जीते 4 एमएलए ने ली शपथ, भाजपा का संख्‍याबल 104 हुआ

भाजपा की सहयोगी गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) के विधायकों की संख्या तीन है और गठबंधन की एक अन्य घटक महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी का एक विधायक है. राकांपा का भी एक विधायक है. शेष तीन निर्दलीय विधायक हैं. प्रमोद सावंत सरकार को जीएफपी, एमजीपी और निर्दलीय विधायकों का समर्थन प्राप्त है.

ममता बनर्जी को बड़ा झटका, बंगाल के 3 विधायक व 50 पार्षद भाजपा में शामिल

कार्यवाहक विधानसभा अध्यक्ष माइकल लोबो ने नवनिर्वाचित विधायकों को शपथ दिलाई. इनमें से तीन विधायक- सुभाष शिरोडकर, दयानंद सोप्ते और जोशुआ डिसिल्वा भाजपा के और अतानासियो मोन्सरेटे कांग्रेस के हैं. ये सभी राज्य की चार सीटों पर हुए उपचुनाव में निर्वाचित हुए हैं.

शिरोडकर और सोप्ते पिछले साल भाजपा में शामिल हो गए थे, जिसकी वजह से शेरोडा और मन्द्रेम विधानसभा सीटों पर उपचुनाव कराया गया. पणजी सीट विधायक एवं मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन और मापुसा सीट विधायक एवं पूर्व उप मुख्यमंत्री फ्रांसिस डिसूजा के निधन के कारण रिक्त हुई थी.

मोदी हैं नेहरू, इंदिरा, राजीव, अटल जैसे करिश्माई नेता, राहुल को इस्‍तीफा देने की जरूरत नहीं: रजनीकांत

मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत सहित कई गणमान्य हस्तियों ने विधानसभा परिसर में संपन्न शपथग्रहण समारोह में हिस्सा लिया. मुख्यमंत्री ने कहा कि भले ही उनकी पार्टी की संख्या सदन में बढ़ गई हो, लेकिन उनकी सरकार गठबंधन के किसी भी सहयोगी को नहीं हटाएगी. उन्होंने कहा, राज्य सरकार गोवा फॉरवर्ड पार्टी और निर्दलीय विधायकों सहित गठबंधन सहयोगियों के साथ अपना कार्यकाल पूरा करेगी. सावंत ने पूछा, अगर एमजीपी सरकार को बिना शर्त समर्थन देती रही तो मैं उन्हें समर्थन वापस लेने को क्यों कहूंगा.