लगातार कई हफ्तों से बर्फबारी की मार झेल रहे जम्‍मू-कश्‍मीर के गुरेज में शुक्रवार को चार जवानों के शव बरामद किए गए हैं और चार अभी भी लापता बताए जा रहे हैं। मौसम विभाग ने तेज बर्फबारी की चेतावनी जताई है। Also Read - LAC पर भारत और चीन की सेना के बीच हिंसक झड़प, 1 अधिकारी, 2 जवान शहीद

बता दें कि गुरुवार को हिमस्खलन में 11 जवानों की मौत हो गई थी। सेना के एक अधिकारी ने बताया कि बांदीपुरा जिले में नियंत्रण रेखा के समीप गुरेज सेक्टर कल शाम बर्फ का एक विशाल चट्टान सेना के शिविर पर आ गिरा जिससे कई सैनिक उसमे फंस गए। उन्होंने कहा गुरुवार सुबह तीन सैनिकों के शव निकाले गए। अधिकारी के मुताबिक दूसरा हिमस्खलन भी गुरेज सेक्टर में बुधवार की ही शाम हुआ । Also Read - कश्मीर में लापता जवान राजेंद्र सिंह नेगी का पता लगाने को युवा कांग्रेस नेता ने शुरू की ऑनलाइन याचिका

ये भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर: हिमस्खलन की चपेट में आया गांदरबल आर्मी कैंप, 5 जवान शहीद, 4 लापता Also Read - यूपी के पूर्व डीजीपी, तत्‍कालीन एसपी समेत कई अफसरों पर केस दर्ज, ये है पूरा मामला

उसकी चपेट में एक गश्ती दल आ गया जो अपनी चौकी पर जा रहा था ।प्रशासन ने हिमपात के चलते कश्मीरघाटी में बर्फ वाले क्षेत्रों में उंचाई पर हिमस्खलन आने की चेतावनी जारी की है। इन क्षेत्रों में तीन दिनों से रूक रूक कर हिमपात हो रहा है।राहत और बचाव का कार्य जारी है। गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर के सोनमर्ग में बुधवार को बर्फीले तूफान की चपेट में आने से सेना के पांच जवानों की मौत हो गई थी, जबकि 5 के लापता होने की खबर थी।

बुधवार को बर्फीले तूफान की चपेट में गांदरबल स्थित आर्मी कैंप आ गया था । पिछले कुछ दिनों से इस इलाके में लगातार भारी बर्फबारी जारी है। इससे पहले मौसम विभाग की ओर से हिमस्खलन और बर्फीले तूफान की चेतावनी जारी की गई थी ।हादसे के बाद से ही सेना अलर्ट हो गई है और राहत व बचाव अभियान को व्‍यापक तौर पर शुरू कर दिया गया है। हालांकि ताजा जानकारी के अनुसार फिलहाल घाटी में भारी बर्फबारी जारी है। वहीं इधर भारी बर्फबारी के बाद जवाहर सुरंग को बंद कर दिया गया है। जिससे श्रीनगर का संपर्क जम्‍मू से कट गया है ।