महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सुबह राजघाट पहुंचे जहां उन्होंने बापू को श्रद्धांजलि अर्पित की. प्रधानमंत्री मोदी के अलावा कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी राजघाट पहुंचकर बापू को श्रद्धांजलि दी. वह राज घाट पर कुछ समय के लिए रुके और वहां सर्व-धर्म प्रार्थना सभा आयोजित की गई. पीएम मोदी ने अपने ट्विटर हैंडल से एक वीडियो शेयर किया और लिखा- राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को उनकी 150वीं जन्म-जयंती पर शत-शत नमन. उन्होंने कहा, “पूरा विश्व महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मना रहा है. सत्य अहिंसा का उनका संदेश, विश्व की शांति, प्रगति और विकास के लिए आज भी प्रसांगिक हैं.”

पीएम ने कहा, “गांधी जी ने कभी अपने जीवन से प्रभाव पैदा करने का प्रयास नहीं किया बल्कि उनका जीवन ही प्रेरणा का कारण बन गया. सिद्धांतों के लिए इसी प्रतिबद्धता ने गांधी जी का ध्यान ऐसी 7 विकृतियों की तरफ खींचा और उनकी ये सातों बातें आज भी रिलीवेंट हैं और आने वाले कल भी रिलेवेंट रहने वाली हैं. वो सात बाते हैं- वेल्थ विदाउट वर्क, प्लेजर विदाउट कोंसियस, नॉलेज विदाउंट कैरेक्टर, बिजनेस विदाउट एथिक्स, साइंस विदाउट ह्युमैनिटी, रिलीजन विदाउट सैकरीफाइज, पॉलिटिक्स विदाउट प्रिंसपल.”

पीएम मोदी ने आगे कहा कि चाहें क्लाइमेट चेंज हो या फिर आतंकवाद, भ्रष्टाचार हो या फिर स्वार्थपरक सामाजिक जीवन, गांधी जी के ये सिद्धांत हमें मानवता की रक्षा करने के लिए मार्गदर्शक की तरह काम करते हैं. उन्होंने कहा, “मुझे विश्वास है कि गांधी जी का दिखाया ये रास्ता बेहतर विश्व के निर्माण में प्रेरक सिद्ध होगा.”


इसके बाद राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू भी महात्मा को श्रद्धांजलि देने के लिए राज घाट पहुंचे. इसके अलावा बीजेपी कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डी ने भी महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी. राष्ट्रपिता के समाधि स्थल राजघाट के बाद मोदी पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की 115 वीं जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए विजय घाट गए. शास्त्री की जयंती भी गांधी के साथ दो अक्टूबर को ही मनाई जाती है.

बता दें कि समाधि स्थलों का दौरा करने के बाद प्रधानमंत्री संसद जाएंगे, जहां वह दोनों नेताओं को पुष्पांजलि अर्पित करेंगे. इसके बाद में शाम को वह अहमदाबाद के लिए उड़ान भरेंगे और साबरमती आश्रम जाएंगे. गांधी की याद में साल 2014 में ‘स्वच्छ भारत’ अभियान की शुरुआत करने वाले प्रधानमंत्री वहां स्वच्छता के लिए आयोजित होने वाले एक कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे.