नई दिल्ली: दिल्ली में राहगीरों से लूटे गए पैसों में ज्यादा हिस्सा मांगने को लेकर हुई लड़ाई में गिरोह के संदिग्ध सरगना की हत्या के आरोप में दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है जबकि दो नाबालिगों को हिरासत में लिया गया है. पुलिस ने सोमवार को बताया कि आरोपियों की शिनाख्त बक्करवाला गांव के रहने वाले अंकित (22), मुंडका गांव निवासी गौतम (22) के तौर पर हुई है. पुलिस ने बताया कि गुरुवार सुबह 5 बजकर 36 मिनट पर हिंद विहार की रेलवे क्रॉसिंग नंबर 14 से लगभग 100 मीटर की दूरी पर एक व्यक्ति का शव बरामद किया गया. शव पर चाकू से कई बार वार किए जाने के निशान थे.

उन्होंने बताया कि मृतक की पहचान बाद में मुंडका गांव के निवासी गौरव के रूप में हुई. पुलिस उपायुक्त दिनेश कुमार गुप्ता ने बताया कि जांच के दौरान, पुलिस ने अंकित को मुंडका रेलवे स्टेशन से गिरफ्तार किया और उसके कब्जे से एक चाकू बरामद किया. उसकी निशानदेही पर, गौतम और दो नाबालिगों को पकड़ लिया. पूछताछ में पता चला कि चारों आरोपी गौरव के नेतृत्व वाले एक गिरोह का हिस्सा थे.

दिल्‍ली में थम नहीं रही झपटमारी, पीएम की भतीजी के बाद अब मजिस्‍ट्रेट का छीना मोबाइल

पुलिस उपायुक्त ने बताया कि वे रात में मुंडका रेलवे स्टेशन पर इकट्ठा होते थे और पटरियों के पास पैदल यात्रियों को लूटने के लिए रेलवे लाइन से अन्य स्टेशनों पर जाते थे. उन्होंने बताया कि बुधवार को लगभग 10 बजे, वे मुंडका रेलवे स्टेशन पर इकट्ठा हुए और 12 बजे के बाद, वे नांगलोई की ओर रेल की पटरियों पर आगे बढ़े.

उन्होंने बताया कि जब वे हिंद विहार रेलवे क्रॉसिंग पर पहुंचने वाले थे, तो गौरव ने अपशब्द कहना और चिल्लाना शुरू कर दिया कि वह गिरोह का सरगना है और लूटी गई रकम में उसका हिस्सा अन्य सदस्यों की तुलना में कम से कम दोगुना होना चाहिए. पुलिस उपायुक्त ने बताया कि गौरव ने अपना चाकू उन्हें दिखाया. इस बीच, उसने अंकित को मार दिया. जवाब में चारों व्यक्ति उसपर टूट पड़े और उसे चाकू गोदकर मार दिया.

यूपी: सिलिंडर फटने से दो मंजिला बिल्डिंग ढही, मौतों का आंकड़ा 13 हुआ, एटीएस करेगी जांच