नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को रवांडा में एक गांव का दौरा किया और पूर्वी अफ्रीकी राष्ट्र की आर्थिक विकास परियोजना के लिए 200 गायों को दान दिया. मोदी ने इस अवसर पर कहा है कि, भारत के लोग भी इस बात को लेकर आश्चर्यचकित होंगे कि रवांडा के किसी गांव की इकोनोमी में गाय इतनी महत्वपूर्ण हो सकती है.प्रधानमंत्री मोदी ने प्रति गरीब परिवार एक गाय कार्यक्रम गिरिंका के तहत रवेरू गांव में 200 गायों का दान किया.”गिरिंका एक महत्वाकांक्षी परियोजना है जो गरीबों को पोषण और वित्तीय सुरक्षा, दोनों प्रदान करती है.

10 लाख हत्या और महिलाओं से रेप का गवाह है रवांडा, रुह कंपाने वाली थी 100 दिन की घटना

गिरिंका व्यक्तिगत रूप से राष्ट्रपति पॉल कागमे की निगरानी में रवांडा सरकार की सामाजिक सुरक्षा योजना है. सबसे गरीब परिवारों को सरकार डेयरी गायों को उपहार में देती है और गाय से पैदा हुई पहली बछिया को पड़ोसी को उपहार में दे दिया जाता है, इस प्रकार से समुदाय में भाईचारे और एकजुटता को बढ़ावा दिया जाता है.

राष्ट्रपति पॉल कागमे ने गिरिंका कार्यक्रम की शुरुआत की थी. गिरिंका का स्थानीय भाषा में मतलब होता है आप के पास एक गाय हो, रवांडा में में लंबे समय से एक दूसरे को गाय देने की परंपरा चली आर रही है. गाय का दान यहां पर सम्मान का प्रतीक है.

डोनाल्ड ट्रंप से रिश्तों को लेकर चर्चा में आई एडल्ट फिल्म एक्ट्रेस का पति से होगा तलाक

गृह युद्ध के बाद राष्ट्रपति कागमे ने हर परिवार को एक गाय देने के कार्यक्रम की शुरुआत की. कगामे का मानना है कि अगर उनके कार्यकाल में रवांडा में गरीबी व बच्चों के बीच कुपोषण दूर करने में किसी एक योजना ने सबसे ज्यादा योगदान दिया तो वह है गिरिंका. यहां जिस भी परिवार को गाय मिली उसकी न सिर्फ आर्थिक स्थिति सुधरी, बल्कि ज्यादा गाय वाले गांवों में उत्पादकता तेजी से बढ़ी. 2006 में इस कार्यक्रम के लागू होने के बाद हजारों परिवारों में गाय बांटी गई. जून 2016 तक इस कार्यक्रम के तहत 248,566 गायें गरीब परिवारों में बांटी गई.

रवांडा में PM नरेंद्र मोदी बोले, पूरी दुनिया पर अपनी छाप छोड़ रहे भारतवंशी हमारे राष्ट्रदूत हैं

रवांडा को 200 गाय देने के आलावा मोदी 20 करोड़ डॉलर की अतिरिक्‍त मदद भी देंगे. भारत यहां अपना उच्‍चायोग भी खोलने जा रहा है, ताकि दोनों देशों के बीच राजनयिक रिश्‍तों की शुरुआत हो सके. हालांकि इस देश पर चीन की भी नजर है. दोनों देशों के बीच होड़ का यह नया ठिकाना बनने जा रहा है. चीन के राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग भी रवांडा का दौरा कर रहे हैं. दोनों नेताओं का यह पहला रवांडा दौरा होगा.