नई दिल्‍ली: भारत की दो दिन की यात्रा पर आई जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल शुक्रवार को सुबह नई दिल्‍ली में राष्‍ट्रपति भवन पहुंचीं, जहां पीएम नरेंद्र मोदी ने उनका स्‍वागत किया. चांसलर मर्केल ने कहा, मैं यहां भारत में आकर खुश हूं. जर्मनी और भारत बहुत करीबी संधियों से जुड़े हुए हैं. हम इस विशाल देश की विविधता के प्रति बड़ा सम्‍मान रखते हैं.

बता दें कि जर्मन चांसलर मर्केल और पीएम मोदी के बीच मीटिंग होना है, जिसमें कई समझौते किए जा सकते हैं. कूटनीतिक सूत्रों के मुताबिक, जर्मन चांसलर की यात्रा के दौरान भारत और जर्मनी के बीच बातचीत के मुख्‍य मुद्दों में स्‍किल डवलपमेंट, जलवायु परिवर्तन, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, सस्‍टेनेबल डवलपमेंट, सुरक्षा और अर्थव्‍यवस्‍था शामिल हैं. इस मीटिंग में यूरोपीय यूनियन के साथ मुक्‍त व्‍यापार समझौते पर भी विचार-विमर्श हो सकता है.

मर्केल ने कहा, यहां हमारा गर्मजोशी भरा और उदार स्वागत किया गया, जिसके लिए मैं प्रधानमंत्री का शुक्रिया अदा करना चाहती हूं. भारत का यह मेरा चौथा दौरा है और मैं यहां एक बेहद दिलचस्प कार्यक्रम में शरीक होने वाली हूं. जब वह संवाददाताओं से बातचीत कर रहीं थी तब प्रधानमंत्री मोदी उनके साथ ही थे.

जर्मनी की चांसलर ने कहा, जर्मनी और भारत के बीच बेहद करीबी संबंध हैं. हम साझा रुचि के मुद्दों पर बातचीत करेंगे. हमारे बीच कई सहमति पत्रों पर हस्ताक्षर होंगे और कई समझौते भी होंगे. यह दिखाता है कि हमारे संबंध बहुत गहरे और व्यापक हैं.

मर्केल नेकहा कि जर्मनी और भारत के बीच कई वर्षों से सहयोग हो रहा है और भविष्य में इस सहयोग को आधार बनाकर आगे बढ़ा जाएगा. उन्होंने कहा, यह बहुत ही करीबी संबंध है. इस विशाल देश और यहां की विविधता का हम बहुत सम्मान करते हैं.

शुक्रवार को मर्केल राजघाट पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की.

मर्केल 5वें आईजीसी की प्रधानमंत्री मोदी के साथ सह-अध्यक्षता करेंगी, जिसके बाद दोनों नेता प्रेस के लिए बयान जारी करेंगे. दोनों पक्षों के कई समझौतों पर हस्ताक्षर करने की उम्मीद है. इस दौरान वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कई द्विपक्षीय मुद्दों पर बात करेंगी और दोनों देशों के बीच करीब 20 समझौतों पर हस्ताक्षर होने की उम्मीद है.

वह शाम को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करेंगी और प्रधानमंत्री के साथ लोक कल्याण मार्ग स्थित उनके आवास पर भी बैठक करेंगी. शनिवार को जर्मन नेता कारोबारी जगत के प्रतिनिधिमंडल से मिलेंगी और मानेसर, गुड़गांव में कॉन्टिनेंटल ऑटोमोटिव कम्पोनेंट्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड का दौरा करेंगी. जर्मनी लौटने से पहले, वह द्वारका सेक्टर 21 मेट्रो स्टेशन भी जाएंगी.

दौरे से पहले भारत में जर्मनी के दूत वाल्टर जे लिंडनर ने कहा था कि मोदी और मर्केल के रिश्ते बहुत अच्छे हैं और दोनों किसी भी मुद्दे पर बातचीत कर सकते हैं. वह दोनों के बीच कश्मीर मुद्दे पर चर्चा होने की संभावना को लेकर पूछे गए सवाल का जवाब दे रहे थे.