नई दिल्लीः कोरोना के प्रकोप को फैलने से रोकने के लिए देशभर में 31 मई तक लॉकडाउन है. देश में कोरोना (Coronavirus) की एंट्री के बाद 24 मार्च सेजारी लॉकडाउन का यह चौथा चरण (Lockdown) है. हालांकि, लोगों की समस्याओं को समझते हुए लॉकडाउन 4 में केंद्र सरकार (Central Government) ने कुछ नई रियायतें दी हैं. Also Read - Coronavirus: धार्मिक स्‍थलों के लिए SOP जारी, घंटी, मूर्ति छूना है प्रतिबंधित, पढ़ें नियम

इन नियमों से अब देश के अलग-अलग हिस्सों में फंसे गरीबों को भी रियायत मिलेगी, जिन्हें सरकार उनके घरों तक पहुंचा रही है. लॉकडाउन 4 के तहत जारी की गई गाइडलाइंस (Lockdown Guidelines) की जानकारी के लिए केंद्र ने शुरुआत में ही एक खास वेबसाइट लॉन्च की है. जिससे अपने परिवार से दूर फंसे लोगों को अपने घर वापस आने में मदद मिलेगी. Also Read - विशेषज्ञों का दावा, एचसीक्यू का दोबारा क्लिनिकल ट्रायल शुरू होना सही दिशा में उठाया गया कदम

केंद्र सरकार द्वारा लॉन्च की गई इस वेबसाइट की मदद से देश के 20 अलग-अलग प्रदेश के लिए ई-पास (e-Pass) बनवाया जा सकेगा. वहीं अगर किसी व्यक्ति का ई-पास रिजेक्ट हो जाता है तो भी वह इस वेबसाइट की मदद से दोबारा ई-पास बनवा सकता है या इसमें सुधार कर सकता है. हालांकि, अभी तक कुछ राज्यों के लिए नाम इस बेवसाइट में नहीं है. ऐसे में व्यक्ति इन राज्यों के लिए अलग से आवेदन कर सकता है. बता दें यह वेबसाइट केंद्रीय परिवहन विभाग की बेवसाइट की तरह ही है. Also Read - Coronavirus: केंद्र सरकार ने शॉपिंग मॉल के लिए जारी की नई गाइडलाइंस, जानें नियम

अगर आप भी लॉकडाउन के बीच किसी अन्य राज्य में फंसे हैं और अपने घर-परिवार के पास जाने के लिए पास बनवाने की कोशिश में जुटे हैं तो इस बेवसाइट के जरिए ई-पास बनवा सकते हैं. इस वेबसाइट का लिंक https://serviceonline.gov.in/epass/# है. बता दें इस वेबसाइट के जरिए अभी तक 11 लाख से ज्यादा ई-पास जारी किए जा चुके हैं. वहीं 10 लाख से अधिक ई-पास अभी प्रक्रिया में हैं. वेबसाइट में अभी तक 33 लाख से अधिक ई-पास के आवेदन आ चुके हैं.