शहर में एक बुजुर्ग मुसलमान की कथित तौर पर पिटाई के मामले की जांच के संबंध में ‘ट्विटर इंडिया’ के प्रबंधक निदेशक मनीष महावेश्वरी के बृहस्पतिवार को गाजियाबाद पुलिस के समक्ष पेश हो सकते हैं.Also Read - Twitter पर अचानक घट रहे हैं यूजर्स के फॉलोअर्स, जानें आखिर क्या है इसके पीछे की वजह?

‘ट्विटर इंडिया’ के प्रबंधक निदेशक कर्नाटक के बेंगलुरू में रहते हैं. 21 जून को गाजियाबाद पुलिस ने उन्हें नोटिस जारी कर बृहस्पतिवार सुबह साढ़े 10 बजे लोनी बॉर्डर थाने में पेश होने और मामले में अपना बयान दर्ज कराने को कहा था. Also Read - राजनीतिक तूफान के बीच ट्विटर इंडिया के एमडी पद से हटाए गए मनीष माहेश्वरी, नई भूमिका में अमेरिका पहुंचे

क्षेत्रीय अधिकारी (लोनी) अतुल कुमार सोनकर ने कहा, ‘‘वह दिए गए समय पर थाने नहीं पहुंचे और उनके दोपहर तक यहां आने की संभावना है.’’ Also Read - मोदी सरकार के फरमान पर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का हनन कर रहा है Twitter: कांग्रेस

गाजियाबाद पुलिस ने 15 जून को ट्विटर इंक, ट्विटर कम्यूनिकेशन इंडिया, समाचार मंच ‘द वायर’, पत्रकार मोहम्मद जुबेर, राणा अयूब, लेखिका सबा नकवी के अलावा कांग्रेस नेता सलमान निजामी, मश्कूर उस्मानी और शमा मोहम्मद के खिलाफ मामला दर्ज किया था. इनके खिलाफ मामले से जुड़ी एक वीडियो साझा करने का आरोप है.

गौरतलब है कि सोशल मीडिया पर साझा की गई वीडियो में बुजुर्ग मुसलमान अब्दुल समद सैफी ने कुछ युवकों पर गाजियाबाद के लोनी इलाके में पांच जून को उन्हें मारने और उन्हें ‘‘जय श्री राम’’ बोलने के लिए मजबूर करने का आरोप लगाया है. पुलिस ने दावा किया है कि यह वीडियो सांप्रदायिक अशांति फैलाने के लिए साझा की गई थी.