नई दिल्लीः लगातार बढ़ते कोरोना वायरस के मामलों को देखते हुए गाजियाबाद दिल्ली बॉर्डर को फिर से सील कर दिया गया है. अब सिर्फ उन्हीं वाहनों को जाने की अनुमति होगी जिनके पास एक शहर से दूसरे शहर जाने का पास होगा. गाजियाबाद में एक बार फिर लॉकडाउन 2.0 जैसे नियम लागू कर दिए गए हैं. ऐसे में दिल्ली से गाजियाबाद और गाजियाबाद से दिल्ली आने-जाने वालों की परेशानी काफी बढ़ गई है. दरअसल, गाजियाबाद से कई ऑफिसकर्मी रोजाना अप-डाउन करते हैं. ऐसे में इन लोगों के लिए परेशानी काफी बढ़ गई है.Also Read - Assembly Polls 2022: कोरोना के मामलों के बीच क्या रैलियों, रोड शो पर लगी पाबंदियां बढ़ेंगी? चुनाव आयोग की अहम बैठक आज

मंगलवार सुबह नए नियमों के चलते जाम का नजारा भी देखने को मिला, जहां गाजीपुर बॉर्डर पर वाहनों की लंबी-लंबी लाइनें देखने को मिलीं. दरअसल, गाजियाबाद के डीएम ने बीते सोमवार को ही यह फैसला लिया कि अब गाजियाबाद में उन्हीं वाहनों को प्रवेश की अनिमति होगी, जिनके पास आने-जाने का पास होगा. ऐसे में लोगों तक इसकी जानकारी ना पहुंच पाने के चलते रास्ते में लंबा जाम देखने को मिला. Also Read - Booster Dose: कोरोना के बूस्टर डोज को लेकर WHO की तरफ से आया यह बयान...

Also Read - Jammu Kashmir: बर्फ से ढके पहाड़ों पर 7-8 घंटे पैदल चलकर लगाने जाते हैं कोरोना वैक्सीन, तस्वीरें देख स्वास्थ्यकर्मियों को करेंगे सलाम!

गाजियाबाद डीएम के नए आदेश के बाद गाजियाबाद से दिल्ली काम करने जाने वालों में हड़कंप मच गया, जिसका परिणाम मंगलवार सुबह गाजीपुर बॉर्डर पर देखने को मिला, जहां लंबा ट्रैफिक जाम दिखा. डीएम द्वारा जारी आदेश में साफ कहा गया है कि अब दिल्ली-गाजियाबाद आने-जाने वाले लोगों में जिले में सिर्फ उन्हीं लोगों को एंट्री दी जाएगी, जिनके पास इसका पास होगा.

यहां तक की जरूरी सामान की ढुलाई कर रहे लोगों को भी पास लेकर चलना जरूरी होगा, क्योंकि बॉर्डर पर तैनात पुलिस पूछताछ कर सकती है. पास ना होने की स्थिति में किसी को भी जिले में प्रवेश नहीं दिया जाएगा. डीएम के आदेश में कहा गया है कि, डॉक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ, बैंक कर्मियों और पुलिस को पास की जरूरत नहीं होगी, बाकि किसी भी फील्ड के व्यक्ति को पास लेकर चलना जरूरी होगा.