नई दिल्‍ली: कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबीं आजाद ने बड़ा बयान जारी करते हुए कहा है कि अगर कांग्रेस पार्टी 50 साल तक विपक्ष में बैठना चाहती है तो कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) के चुनाव न कराए जाएं. इस बाबत गुलाम नबीं आजाद ने कहा कि हम उन लोगों में से हैं जिन्हें 1970 के बाद कांग्रेस बनाई. बता दें कि गुलाम नबी आजाद उन 23 लोगों से हैं जिन्होंने पार्टी में बदलाव और नए अध्यक्ष पद के लिए चुनाव कराने की मांग की है. Also Read - एमपी के गृहमंत्री ने कहा- "मैं मास्क नहीं पहनता", कांग्रेस ने पूछा-"क्या कायदे बस आम लोगों के लिए हैं?"

गुलाम नबी आजाद ने इस बाबत कहा कि हमें हर बार तब पीड़ा होगी, जब जिन्हें चुनावों के बारे में कुछ नहीं पता अगर वो आलोचना करेंगे. हमने बहुत से प्रधानमंत्रियों और राष्ट्रपतियों के साथ काम किया है. कुछ तो बात होगी. जो लोग यहां तक कुछ भी करने नहीं आए हैं वह इस बदलाव का विरोध कर रहे हैं. जिसे कांग्रेस पार्टी में रूची होगी वह मेरे फैसले का स्वागत करेगा. Also Read - मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने किसानों का कर्ज माफ किया, भाजपा ने झूठ बोला, सच सामने आया: राहुल गांधी

उन्होंने कहा कि कांग्रेस कार्य समिति को निर्वाचित किया जाना चाहए. समिति में आप किसी को हटा नहीं सकते लेकिन मैंने गलत बयान दिया तो आज मुझे हटा दिया. आजाद ने आगे कहा कि अगर कांग्रेस पार्टी अगले 50 सालों तक विपक्ष में बैठना चाहती है तो CWC में चुनाव न कराए. हम इस समय विपक्ष में है और सत्ताधारी पार्टी बहुत मजबूत है. ऐसे हमें मुझे इससे कोई फायदा नहीं है, हमारा पारिवारिक रिश्ता है गांधी परिवार से सिर्फ. लेकिन आज ये चापलूस ज्यादा करीबी हो गए हैं. लॉयल वही होता है जो लीडर को ठीक करने के लिए कई बार बोलता है. Also Read - चिकित्सा जांच के बाद स्वदेश लौटीं सोनिया गांधी, राहुल भी वापस आए

आजाद ने आगे कहा कि सोनिया गांधी ने कहा कि आपने लेटर लिखा वो ठीक है लेकिन यह लीक नहीं होना चाहिए. आखिर इसमें ऐसी कौन सी बात है लीक हो गई तो दिक्कत हो गई. हमने एक समय नरसिम्हा राव को भी लेटर लिखा था. हमने उनसे भी PCC न बनने को लेकर सवाल किया था कि आखिर वे वे क्यों PCC प्रमुख नहीं बन रहे. बता दें कि कांग्रेस में दो फाड़ साफ दिखाई देने लगा है. ऐसे में पार्टी द्वारा क्या फैसला लिया जाना है अब यह सोनिया गांधी, राहुल गांधी के उपर ही निर्भर करता है.