Bangladeshis, Rohingyas issue News: तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में Greater Hyderabad Municipal Corporation Election जंग का अखाड़ा बने हैं. रविवार को हैदराबाद में रोड करने पहुंचे केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने बांग्‍लादेश रोहिंग्‍या के मुद्दे पर AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी पर पलटवार किया है.Also Read - भरी सभा में अपनी ही पार्टी की पोल खोलने लगे भाजपा सांसद अरविंद शर्मा, मंच से बोले- सीएम खट्टर अपने दिमाग से काम नहीं करते

केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में बांग्‍लादेश रोहिंग्‍या के मुद्दे पर कहा, ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (All India Majlis-e-Ittehadul Muslimeen) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी लिखकर दे दें कि बांग्‍लादेश रोहिग्‍या को हटाना है तो फिर देखें केंद्र सरकार का रेस्‍पॉन्‍स. केवल चुनाव के दौरान चर्चा करना पर्याप्‍त नहीं है. संसद में जब भी बांग्‍लादेशी और रोहिंग्‍या पर चर्चा हुई तो उनका पक्ष कौन लेता है. लोग यह जानते हैं. लोगों ने इसे लाइव टीवी में देखा है. Also Read - राशन उठाने वाले अनधिकृत लोगों से वसूली के ‘शासनादेश’ पर श्वेत पत्र जारी करे सरकार: कांग्रेस

केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने कहा, हैदराबाद को निजाम कल्‍चर से मुक्‍त होना चाहिए और आधुनिक शहर और लोकतांत्रि‍क सिद्धांतों पर आधारित होना चाहिए. Also Read - भाजपा का मिशन विजयः संगठन को मजबूत करने के साथ ही विरोधियों को कमजोर करने की रणनीति पर हो रहा काम

बता दें कि शाह के आने से पहले रोहिग्‍या के मुद्दे पर AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा था- यह बीजेपी ने दावा किया था कि 30,000 मतदाता रोहिंग्या शरणार्थी हैं, जो यहां मतदाता सूची में दर्ज हैं. मैंने कहा कि उन्हें ऐसे 1000 नामों की पहचान करनी चाहिए और पूछा कि क्या अमित शाह दिल्ली में सो रहे थे? वह उन्हें क्यों नहीं हटाते? उन्‍हें कौन रोक रहा है?

हैदाबाद में बीजेपी के पूर्व अध्‍यक्ष शाह ने कहा, हम हैदराबाद को Dynasty से democracy की ओर ले जाना चाहते हैं. चाहे ओवैसी साहब की पार्टी हो या TRS हो, सब हमें सवाल करते हैं. मैं इसने पूछना चाहता हूं कि इतने बड़े तेलंगाना में आपको आपके परिवार के अलावा कोई नहीं मिलता है क्या? क्या किसी में कोई टेलेंट नहीं है?

केंद्रीय मंत्री ने कहा, हम हैदराबाद को भ्रष्टाचार से पारदर्शिता की ओर ले जाना चाहते हैं. हम हैदराबाद को तुष्टिकरण से विकास की ओर ले जाना चाहते हैं.

शाह ने कहा कि तेलंगाना के लोग सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) और असदुद्दीन औवेसी की ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के ‘गठजोड़’ से नाराज और आक्रोशित हैं. शाह ने कहा, मैं श्रीमान चंद्रशेखर राव से पूछना चाहता हूं कि मजलिस के साथ आप गुप्त समझौता क्यों करते हो? इतनी हिम्मत क्यों नहीं है कि मजलिस के साथ खुले आम सीटें शेयर करें. हैदराबाद की जनता को केसीआर और मजलिस जवाब दें.