नई दिल्ली. मनोहर पर्रिकर देश के 17वें ऐसे मुख्यमंत्री हैं जिनका पद पर रहते हुए निधन हुआ है. इसके अलावा वह गोवा के दूसरे ऐसे मुख्यमंत्री हैं. पूर्व रक्षा मंत्री पर्रिकर (63) का गोवा की राजधानी के समीप डोना पाला में उनके निजी आवास में निधन हो गया. वह पिछले कुछ समय से अग्नाशय के कैंसर से पीड़ित थे. पर्रिकर से पहले महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के नेता दयानन्द बंदोकर का मुख्यमंत्री के पद पर रहते हुए अगस्त 1973 में निधन हुआ था.

तमिलनाडु में द्रमुक के शीर्ष नेता सीएन अन्नादुरै का 1967 में मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए निधन हुआ था. इसके बाद अन्नाद्रमुक के संस्थापक एम जी रामचंद्रन का इस पद पर रहते हुए दिसंबर 1987 में निधन हुआ था. इसके बाद उन्हीं की पार्टी की लोकप्रिय नेता जे जयललिता का इस पद पर रहते हुए दिसंबर 2016 में निधन हुआ था. जम्मू कश्मीर में शेख अब्दुल्ला और मुफ्ती मोहम्मद का मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए निधन हुआ था.

गुजरात में मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए बलवंत राय मेहता की 1965 में भारत पाकिस्तान युद्ध के समय विमान हादसे में मौत हो गई थी. वह जिस विमान में यात्रा कर रहे थे, पाकिस्तान ने उसे मार गिराया था. चिमनभाई पटेल का भी मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए 1994 में निधन हो गया था. अविभाजित आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एस राजशेखर रेड्डी की सितंबर 2009 में हेलीकॉप्टर हादसे में मौत हो गई थी.

गोवा के नए सीएम हो सकते हैं प्रमोद सावंत, शपथ ग्रहण थोड़ी देर में

गोवा के नए सीएम हो सकते हैं प्रमोद सावंत, शपथ ग्रहण थोड़ी देर में

हेलीकॉप्टर हादसे में ही मई 2011 में अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री दोरजी खांडू की मौत हो गई थी. पंजाब के मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की 1995 में आतंकवादियों द्वारा किए गए बम विस्फोट में मौत हुई थी. इसके अलावा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री मारूतराव कन्नमवार की भी पद पर रहते हुए मौत हुई थी. प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी विधानचंद्र राय का 1962 में पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए निधन हुआ था.

इसी प्रकार बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री श्रीकृष्ण सिंह का 1961, मध्य प्रांत (वर्तमान में मध्य प्रदेश) के मुख्यमंत्री रविशंकर शुक्ला का दिसंबर 1956 तथा असम के महान नेता गोपीनाथ बारदोलई का अगस्त 1950 में मुख्यमंत्री रहते हुए निधन हो गया था.