Goa Assembly Election 2022: इस पार्टी ने किया अनोखा वादा-चुनाव जीते तो दो घंटे की नींद फ्री, जानिए

Goa Assembly Election 2022: गोवा फॉरवर्ड पार्टी ने चुनाव से पहले जनता से अनोखा वाद किया है. पार्टी प्रमुख विजय सरदेसाई ने कहा है कि अगर हम जीते और सरकार बनी तो सबको दो घंटे की नींद, जानिए और क्या कहा है...

Published: January 15, 2022 4:10 PM IST

By Kajal Kumari

goa assembly election 2022
goa assembly election 2022

Goa Assembly Election 2022: गोवा फॉरवर्ड पार्टी ने बड़ा ही अनोखा वादा किया है. गोवा फॉरवर्ड पार्टी ने कहा है कि अगर हम जीतते हैं और हमारी सरकार बनी तो फिर राज्य में हर किसी को दोपहर में दो घंटे के लिए नींद फ्री. यानी की सबको  सोने के लिए दो घंटे का ब्रेक दिया जाएगा. पार्टी के प्रमुख विजय सरदेसाई ने कहा है, ‘अगर उन्हें जनता गोवा का मुख्यमंत्री बनाती है तो वो सभी के लिए दोपहर में सोने के लिए 2 से 4 बजे के बीच जरूरी ब्रेक देना शुरू कर देंगे. इसे लागू करने के लिए जरूरी कानूनी प्रावधान लाया जाएगा.’ ऐसा करने का कारण बताते हुए विजय सरदेसाई का कहना है कि राज्य में ‘सुसेगाड’ को बचाने की जरूरत है.

Also Read:

क्या होता है सुसेगाड, जानिए

बता दें कि पुर्तगाली शब्द सोसेगैडो से सुसेगाड शब्द आया है. इसका मतलब ‘शांति’ और सुकून है. लिहाजा दोपहर की नींद को सुसेगाड से जोड़ कर देखा जाता है. पिछले दिनों सरदेसाई ने दावा किया था कि मेडिकल साइंस भी कहता है कि छोटी झपकी या दोपहर में आराम करने वाले लोगों की याददाश्त काफी अच्छी होती है. इससे नौकरी पेशा लोग भी बेहतर तरीके से काम कर सकते हैं.

गोवा के डिप्टी सीएम भी चुके हैं सरदेसाई

बता दें कि गोवा में फॉरवर्ड पार्टी साल 2015 में बनी थी और इसका नेतृत्व राज्य के पूर्व उप-मुख्यमंत्री विजय सरदेसाई कर रहे हैं. विजय सरदेसाई साल 2012 में पहली बार निर्दलीय विधायक के रूप में जीते थे और साल 2017, यानी अपने दूसरे कार्यकाल में अपना समर्थन देकर पर्रिकर मंत्रीमंडल में न सिर्फ जगह बनाई, बल्कि उप-मुख्यमंत्री का भी पद भी संभाला था.

गोवा में हुआ हा कांग्रेस और गोवा फॉरवर्ड पार्टी का गठबंधन

गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) ने कांग्रेस के साथ विधानसभा चुनाव पूर्व गठबंधन की घोषणा की है. गोवा फॉरवर्ड पार्टी पहले भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) का हिस्सा रही थी और उसने 2017 में एक साथ चुनाव लड़ा था. हालांकि, इसने 2019 में एनडीए को छोड़ दिया था.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें देश की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date: January 15, 2022 4:10 PM IST