पणजीः गोवा भाजपा में सब कुछ ठीक नहीं है. मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के बीमार पड़ने के बाद से प्रदेश इकाई में एक तरह से अफरा-तफरा की स्थिति है. इसी कड़ी में भाजपा की गोवा इकाई के विधायक और पूर्व उपमुख्यमंत्री फ्रांसिस डीसूजा ने एक ऐसा बयान दे दिया है जिसको लेकर पार्टी की फजीहत हो रही है. डीसूजा ने बुधवार को कहा कि अगर वह अपनी ही पार्टी के खिलाफ बोलते हैं, तो उन्हें केंद्रीय एजेंसियों की छापेमारी का सामना करना पड़ेगा. डीसूजा अमेरिका में अपना इलाज कराने के बाद बुधवार को यहां लौटे. इससे पहले खराब सेहत का हवाला देते हुए उन्हें गोवा मंत्रिमंडल से हटा दिया गया था. इस फैसले को लेकर डीसूजा ने नाराजगी जाहिर की थी. Also Read - भाजपा अध्यक्ष ने कहा- लॉकडाउन में पैदल घर को निकले लोगों की मदद करें पार्टी कार्यकर्ता 

अमेरिका से लौटने पर यहां संवाददाताओं से उन्होंने कहा कि उन्हें अपने भविष्य को लेकर डर है. डीसूजा ने कहा, “पिछले 20 सालों से मैं किसी भी गलत बात को लेकर चर्चा में नहीं रहा. मुझे नहीं पता कि कल से क्या होगा.” उन्होंने कहा, “हो सकता है मुझे आयकर, केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई), प्रवर्तन निदेशालय की छापेमारी का सामना करना पड़े या पार्टी के खिलाफ बोलने के लिए मुझ पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत मामला दर्ज कर दिया जाए.” Also Read - राहुल गांधी ने सरकार को सराहा, कहा- आर्थिक पैकेज की घोषणा सही दिशा में पहला कदम

Also Read - मध्‍य प्रदेश विधानसभा में शिवराज सिंह चौहान ने विपक्ष की गैरमौजूदगी में विश्‍वास मत हासिल किया