पणजी: गोवा भाजपा के प्रवक्ता दत्ता प्रसाद नाईक ने सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर हमला किया और कहा कि उन्हें देश के लोगों से जुड़े मुद्दों की समझ नहीं और इसलिये उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गले लगा लिया तथा संसद में एक ‘‘लोफर’’ की तरह आंख मारी. गोवा कांग्रेस के प्रमुख गिरीश चोडांकर के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को गठबंधन सहयोगियों के हाथों की ‘कठपुतली’ करार दिये जाने के एक दिन बाद राहुल गांधी पर भाजपा का हमला सामने आया है. Also Read - कोरोना: ऑक्सीजन और दवाओं की आपूर्ति पर पीएम मोदी ने बुलाई उच्च स्तरीय बैठक, PMO ने दी अहम जानकारी

Also Read - Corona Crisis: PM Modi ने कोविड-19 की स्थिति पर महाराष्ट्र और तमिलनाडु के CM से की बात

नाइक ने एक बयान में कहा, ‘‘मैं गोवा कांग्रेस से कहूंगा कि वह 2019 के लोकसभा चुनावों के लिये एक विश्वसनीय नेता की तलाश में पार्टी के केंद्रीय कार्यालय की मदद करें क्योंकि उनके अध्यक्ष राहुल गांधी के लिये सुर्खियों में बने रहना मुश्किल हो रहा है और उन्हें सस्ते हथकंडे अपनाने पड़ रहे हैं.’’ Also Read - CoronaVaccine Kerala Model: कोरोना वैक्सीन की एक-एक बूंद का केरल सरकार ने ऐसा क्या किया, पीएम मोदी भी हो गए खुश

‘आप मुझे पप्पू कहें, मैं आपसे नफरत नहीं करता’…और पीएम को राहुल ने गले लगा लिया

भाजपा प्रवक्ता ने शुक्रवार को सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान संसद में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को गले लगाने के संदर्भ में यह बातें कहीं. प्रवक्ता ने कहा कि राहुल गांधी के पास भारत के लोगों से जुड़े मुद्दे की समझ नहीं है. उन्होंने लोकतंत्र के मंदिर में प्रधानमंत्री को लगे लगा लिया और फिर एक लोफर की तरह आंख मारी.

पीएम मोदी से गले मिले, फिर लौटकर मारी आंख…राहुल गांधी की सुमित्रा ताई ने की खूब खिंचाई

बता दें कि अविश्वास प्रस्ताव के दौरान राहुल ने अपने भाषण में सरकार को कई मुद्दों पर घेरा. भाषण देने के बाद वह अचानक उठकर पीएम मोदी की कुर्सी तक पहुंचे और उन्हें गले लगा लिया. इस दौरान पीएम सीट पर ही बैठे थे. राहुल के इस बर्ताव से पीएम भी हैरान से दिखे. इसके बाद राहुल वापस अपनी सीट पर चले गए. सीट पर वह बाईं तरफ साथी सांसद को आंख मारते दिखे. इसके बाद से भाजपा नेता उनकी आलोचना कर रहे हैं. बीजेपी ने तो राहुल को निशाने पर लिया ही है, लेकिन लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने भी राहुल को नसीहत देने में कोर कसर नहीं छोड़ी. उन्होंने राहुल के बर्ताव को अपरिपक्व और संसद की मर्यादा के खिलाफ करार दिया.