पणजी: गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को बेचैनी की शिकायत के बाद गोवा मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में भर्ती कराया गया. बता दें कि जीएमसीएच के एक अधिकारी के अनुसार मनोहर पर्रिकर को व्हीलचेयर पर अस्पताल लाया गया. उनके साथ उनके परिवार के सदस्य थे. इससे पहले उन्हें मुंबई के लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जहां इलाज के बाद उन्हें 22 फरवरी को छुट्टी दे दी गई थी. Also Read - गोवा में कोरोना वायरस ने फिर दी दस्तक, दो नए मामलों के साथ चल रहा 41 संक्रमितों का इलाज

मुंबई में मनोहर पर्रिकर अग्नाशय संबंधी दिक्कतों के कारण भर्ती कराया गया था. मुंबई से गोवा लौटने पर उन्होंने 22 फरवरी को ही राज्य विधानसभा में बजट प्रस्तुत किया था. संपर्क करने पर गोवा के स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे ने बताया कि पर्रिकर को शरीर में जल की कमी की समस्या है लेकिन उनका जीएमसीएच में इलाज चल रहा है. राणे ने कहा, हमने विशेषज्ञ चिकित्सकों की तैनाती की है, जो उनके स्वास्थ्य पर लगातार नजर रख रहे हैं.

गौरलतब हो कि मुंबई में इलाज के दौरान गोवा विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चंद्रकांत कावलेकर ने कहा था कि कांग्रेस भारतीय जनता पार्टी नीत गठबंधन सरकार से मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के स्वास्थ्य की वास्तविक प्रकृति और इसकी गंभीरता के संबंध में एक विस्तृत बयान जारी करे.

मुंबई में इस बिमारी के कारण थे भर्ती
अग्नाशय के सूजन को अग्नाशयशोथ कहते हैं. अग्नाशय (पेनक्रियाज) पेट में जिगर से जुड़ा एक ऐसा अंग होता है, जो पाचन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और यह आहार को पचाने के लिए पाचक रस का निर्माण करता है. यह रक्त शर्करा यानी ब्लड शुगर को भी नियंत्रित करता है.