पणजी: गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर का निधन हो गया है. मुख्यमंत्री कार्यालय ने जानकारी दी थी कि उनकी हालत बेहद नाजुक है. इसके बाद उनके निधन की खबर आई. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सबसे पहले निधन पर शोक जताया. मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद केंद्रीय मंत्रिमंडल की होने वाली बीजेपी की बैठक टाल दी गई है. ये बैठक आज होने वाली थी. 63 साल के पर्रिकर अग्नाशय की गंभीर बीमारी से पीड़ित थे और यहां पास में डोना पौला में स्थित अपने निजी आवास में रह रहे थे. सीएमओ ने आज शाम ट्वीट किया था, ‘‘मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की सेहत की हालत बेहद नाजुक है. डॉक्टर अपनी भरपूर कोशिश कर रहे हैं.’’ पूर्व रक्षा मंत्री की सेहत पिछले दो दिन में काफी खराब हो गई थी. 1955 में जन्मे मनोहर पर्रिकर गोवा के चार बार सीएम रहे. उनकी सादगी को मिसाल माना जाता था. वह बीमारी के कठिन दिनों में भी काम करते हुए नजर आ रहे थे.

मनोहर पर्रिकर: 25 साल का करियर, 4 बार CM, 1 बार बने रक्षामंत्री, ऐसा रहा राजनीति के ‘कॉमन मैन’ का सफर

मनोहर पर्रिकर का पार्थ‍िव शरीर अंतिम दर्शन के लिए पणजी के बीजेपी ऑफिस में आज सोमवार सुबह 9.30 मिनट से 10.30 बजे तक रखा जाएगा. सुबह 10.30 बजे उनका पार्थ‍िव शरीर कला अकादमी में रखा जाएगा. सुबह 11 बजे से शाम 4 बजे तक उनके समर्थक और आम लोग उनके दर्शन कर सकेंगे. पणजी के एसएजी मैदान पर शाम 5 बजे अंतिम संस्‍कार किया जाएगा. सरकार ने सोमवार को राष्ट्रीय शोक घोषित किया है.


मंत्री ने कहा था- कोई उम्मीद नजर नहीं आती
बता दें कि एक दिन पहले ही 16 मार्च को गोवा सरकार के मंत्रियों व विधायकों ने मुलाकात की थी. मिलने के बाद मंत्री विजय सरदेसाई ने शनिवार को मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर से भेंट की थी. डोना पौला स्थित पर्रिकर के निजी आवास से निकलते हुए सरदेसाई ने संवाददाताओं से कहा कि मुख्यमंत्री का स्वास्थ्य बिगड़ा है, लेकिन स्थिर है. उन्होंने कहा, जब कैंसर का पता चला था तो मुख्यमंत्री ने पद छोड़ने की इच्छा जताई थी, उस वक्त हमने स्थाई समाधान और स्थिरता की मांग की थी.


वहीं, गोवा के मंत्री मिचेल लोबो ने कहा था कि जब तक पर्रिकर हैं, तब तक कोई दूसरा सीएम नहीं हो सकता. उन्होंने कहा था कि वह वाकई बेहद बीमार हैं. डॉक्टर उन्हें देख रहे हैं लेकिन ये नहीं कह रहे हैं कि वह स्वस्थ होंगे. मंत्री ने कहा कि हम दुआ कर रहे हैं कि वह (पर्रिकर) जल्द ठीक हो जाएँ, लेकिन कोई उम्मीद नजर नहीं आ रही है. वह बेहद बीमार हैं. अगर उन्हें कुछ हुआ तो नया सीएम भी बीजेपी का ही होगा.

पहले आईआईटियन CM थे मनोहर पर्रिकर, स्कूटी से जाते थे विधानसभा, टी-स्टॉल पर पी लेते थे चाय


नेतृत्व परिवर्तन के बारे में बीजेपी कर रही थी विचार

गोवा सीएम मनोहर पर्रिकर की गिरती सेहत के बीच बीजेपी ने रविवार को कहा था कि उसने राज्य में राजनीतिक परिवर्तन पर विचार शुरू कर दिया है. लोगों से अफवाहों पर ध्यान न देने की अपील करते हुए पार्टी ने यह भी कहा कि राज्य की सरकार स्थिर है. भाजपा की राज्य मीडिया समन्वयक संध्या साधले ने एक बयान में कहा, दिल्ली और गोवा में हमारा भाजपा का नेतृत्व बहुत मजबूत, स्थिर है और हमने गोवा में राजनीतिक परिवर्तन के बारे में विचार शुरू कर दिया है.

पीएम ने कहा- आधुनिक गोवा के निर्माता थे मनोहर पर्रिकर, अमित शाह, राहुल, गडकरी ने दी श्रद्धांजलि


कांग्रेस ने सरकार बनाने का दावा किया था पेश
बता दें कि कांग्रेस ने गोवा में 16 मार्च शनिवार को सरकार बनाने का दावा पेश किया था. पार्टी ने दावा किया था कि भाजपा विधायक फ्रांसिस डिसूजा के निधन के बाद मनोहर पर्रिकर सरकार ने विधानसभा में अपना बहुमत खो दिया है. गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा को लिखे एक पत्र में विपक्ष के नेता चंद्रकांत कावलेकर ने सरकार बनाने का दावा पेश किया और भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार को बर्खास्त किए जाने की मांग की. भाजपा विधायक फ्रांसिस डिसूजा के निधन और दो विधायकों सुभाष शिरोडकर तथा दयानंद सोप्ते के इस्तीफे और विधायक फ्रांसिस डिसूजा के निधन के बाद 40 सदस्यीय विधानसभा की क्षमता अब घटकर 37 रह गई है. इस समय कांग्रेस के 14 विधायक हैं. भाजपा के विधायकों की संख्या 13 है.