नई दिल्ली. गोवा के पिछले काफी अर्से से बीमार चले रहे मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने बुधवार को राहुल गांधी पर आरोप लगाया कि उन्होंने ‘शिष्टाचार भेंट’ का इस्तेमाल तुच्छ राजनीतिक फायदे के लिए किया और उन दोनों के बीच पांच मिनट की मुलाकात में राफेल मुद्दे का कोई जिक्र नहीं हुआ था. कांग्रेस अध्यक्ष को लिखे पत्र में पर्रिकर ने कहा, ‘मैं इसे लेकर बेहद आहत हूं कि आपने इस मुलाकात का इस्‍तेमाल भी अपने तुच्छ राजनीतिक फायदे के लिए किया. आपने मेरे साथ महज 5 मिनट का वक्‍त बिताया और इस दौरान न तो आपने राफेल के बारे में कुछ जिक्र किया और न ही हमने इस संबंध में कोई चर्चा की.’ उन्‍होंने अपने पत्र में यह भी लिखा कि कांग्रेस अध्‍यक्ष जिस तरह की बातें कर रहे हैं, उससे उनके मन में उनसे मिलने पहुंचे कांग्रेस नेता के इरादों को लेकर संशय पैदा हो गया है.

मनोहर पर्रिकर ने राहुल को यह पत्र ऐसे समय में लिखा है जब एक दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को निशाना बनाते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने दावा किया था कि पर्रिकर जो पूर्व रक्षा मंत्री रह चुके हैं, उन्होंने स्पष्ट तौर पर कहा कि उनका नए सौदे से कोई लेना-देना नहीं है. राहुल गांधी ने नए सौदे के तहत नरेन्द्र मोदी द्वारा अनिल अंबानी को फायदा पहुंचाने का आरोप लगाया. पर्रिकर ने राहुल गांधी को लिखा है कि बिना किसी पूर्व सूचना के वे उनके स्वास्थ्य का हाल पूछने यहां आए थे, दलगत भावना से ऊपर उठकर एक अस्वस्थ का हाल जानना अच्छी परंपरा है. उन्हें (पर्रिकर) भी उनका (राहुल) आना अच्छा लगा, लेकिन इस यात्रा को लेकर आज सुबह आपके जो बयान आए, उससे वह आहत हैं.

उन्होंने लिखा कि समाचार पत्रों में पढ़कर आश्चर्य भी हुआ कि उन्होंने (पर्रिकर) उनको (राहुल) राफेल मुद्दे पर कुछ बताया है. आपने कहा है कि राफेल मुद्दे में मैं (मनोहर परिकर) कहीं नहीं था. मुझे कोई जानकारी नहीं थी. जबकि ऐसा नहीं है. वास्तव में इस मुलाकात के दौरान राफेल का कोई जिक्र नहीं हुआ. गोवा के मुख्यमंत्री ने लिखा कि उन्होंने सोचा था, उनका (राहुल) आना और शुभकामनाएं मेरे लिए इस प्रतिकूल स्थिति में संबल प्रदान करेंगी. उन्होंने कहा कि लेकिन वह नहीं समझ सके कि उनके (राहुल) आने का वास्तविक इरादा यह था. पर्रिकर ने लिखा, ‘किसी बीमार और अस्वस्थ व्यक्ति से भेंट का इस्तेमाल अपनी तुच्छ राजनीति का शिकार बनाने के लिए मत करिएगा.’