पणजीः भाजपा के प्रमोद सावंत ने सोमवार की देर रात गोवा के मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली. राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने यहां देर रात लगभग दो बजे राजभवन में 46 वर्षीय सावंत को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई. सावंत के अलावा पर्रिकर के नेतृत्व वाली कैबिनेट का हिस्सा रहे 11 विधायकों ने भी मंत्रियों के रूप में शपथ ली. Also Read - भाजपा का बड़ा आरोप, कांग्रेस ने जमात-ए-इस्लामी, पीएफआई जैसे संगठनों से समझौते किए

पहले यह शपथ ग्रहण समारोह सोमवार की रात 11 बजे होना था लेकिन कुछ कारणों के कारण इसमें विलंब हुआ. सावंत गोवा विधानसभा के अध्यक्ष थे. इससे पहले सावंत ने कहा था कि उनकी पार्टी भाजपा ने उन्हें एक बड़ी जिम्मेदारी दी है. सावंत ने पत्रकारों से इस बात की पुष्टि की थी कि नई सरकार में दो उपमुख्यमंत्री होंगे. सावंत ने मनोहर पर्रिकर का स्थान लिया है जिनका रविवार को निधन हो गया था. Also Read - उद्धव का भाजपा से सवाल, 'बिहार के लिए टीका मुफ्त, बाकी राज्यों के लोग क्या बांग्लादेश से आये हैं'

इससे पहले नए मुख्यमंत्री के नाम पर सहमति बनाने के लिए सोमवार को दिन भर बैठकों का दौर चलता रहा. सावंत को सीएम पद पर आसीन कराने के लिए भाजपा के वरिष्ठ नेता नितिन गडकरी देर रात राजभवन पहुंचे और उन्होंने गवर्नर मृदुला सिन्हा को भाजपा और उसे समर्थन देने वाली पार्टियों के समर्थन पत्र सौंपे. इसके बाद ही सावंत के मुख्यमंत्री बनने की घोषणा की गई. Also Read - शिवराज चौहान ने पूछा- क्या राहुल गांधी की कांग्रेस अलग है और कमलनाथ की कांग्रेस अलग?

मीडिया रिपोर्टों में कहा जा रहा है कि जीएफ़पी के विजय सरदेसाई और महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के सुदिन धवलेकर भी प्रमोद सावंत के साथ डिप्टी सीएम बनेंगे. गतिरोध खत्म करने के लिए दो डिप्टी सीएम बनाए गए हैं. 24 अप्रैल, 1973 को जन्मे प्रमोद सावंत के साथ ही बीजेपी नेता विश्वजीत राणे का भी नाम सीएम पद की रेस में था. सोमवार को दिनभर राज्य में सरकार बनाने को लेकर रस्साकशी चलती रही.