नई दिल्ली: गोवा(GOA) के मुख्य स्विमिंग कोच सुरजीत घोष को एक नाबालिग लड़की के साथ यौन शोषण के आरोप में मुख्य कोच के पद से हटा दिया गया है. सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल होने के बाद स्विमिंग फेडरेशन ने यह कदम उठाया. वीडियो में कोच सुरजीत घोष को लड़की के साथ छेड़छाड़ करते हुए देखा जा सकता है. कोच की इस हरकत का वीडियो सोशल मीडिया (Soacial Media) पर वायरल होने के बाद तैराकी संघ ने उनके खिलाफ यह कदम उठाया. कोच सुरजीत गांगुली पर 15 साल की लड़की ने छेड़छाड़ का आरोप लगाया जो उनके मार्गदर्शन में ट्रेनिंग कर रही थी। खेल मंत्री किरेन रिजूजु (Kiren Rijiju) ने ट्वीट कर गांगुली के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का आश्वासन दिया.

स्टार्ट नहीं हुई तो बीच सड़क पर जीप में लगा दी आग, टिक-टॉक वीडियो बनाकर किया शेयर, फिर…

उन्होंने कहा, ‘‘गोवा तैराकी संघ ने कोच सुरजीत गांगुली(Surjeet ganguly) का अनुबंध समाप्त कर दिया है. मैं भारतीय तैराकी महासंघ से यह सुनिश्चित करने के लिए कह रहा हूं कि इस कोच को भारत में कहीं भी नहीं रखा जाये. यह सभी महासंघों और प्रतिस्पर्धाओं पर लागू होता है.’’ उन्होंने कहा,‘‘भारतीय खेल प्राधिकरण के जरिये इस मामले में कठोर कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने कहा कि पहले तो यह गंभीर जघन्य अपराध है इसलिये मैं तुरंत पुलिस से इस कोच के खिलाफ कठोर दंडात्मक कार्रवाई करने का आग्रह करूंगा’’

गैंगरेप पीड़िता की अस्पताल में मौत, जन्मदिन पर केक काटने के बाद चार दोस्तों ने की थी दरिंदगी

जीएसए ने पुष्टि की कि गांगुली का अनुबंध खत्म कर दिया गया है. जीएसए के सचिव सैयद अब्दुल माजिद ने पीटीआई से कहा, ‘‘हमने वीडियो देखने के बाद सुरजीत का अनुबंध तुरंत प्रभाव से खत्म कर दिया है. लड़की और कोच दोनों बंगाल से ही हैं ’’ गांगुली को जीएसए ने ढाई साल पहले नियुक्त किया था.

बिहार के दो सगे भाइयों को क‍श्‍मीरी बहनों से हुआ प्‍यार, शादी की…फिर आया ये मोड़

स्विमिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष दिगंबर कामत ने गुरुवार को पुष्टि की कि ट्विटर पर वीडियो के सामने आने के बाद घोष को बर्खास्त कर दिया गया है. कामत ने आईएएनएस से कहा कि, “हमने वीडियो के अधार पर स्वत: संज्ञान लेते हुए कार्रवाई की है.” एक रिपोर्ट के अनुसार, घोष ने अंतरराष्ट्रीय स्विमिंग प्रतियोगिताओं में कुल 12 पदक जीते हैं. उन्होंने 1984 में हांगकांग में हुए एशियन स्विमिंग चैंपियनशिप में पहली बार पदक जीता था.

आपको बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब किसी कोच की इस तरह की हरकत सामने आई है. इससे पहले देहरादून के एक स्कूल में भी स्वीमिंग टीचर द्वारा यौन शोषण का मामला सामने आया था. इस मामले में राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने स्कूल का दौरा भी किया था. इससे पहले मध्य प्रदेश के एक छात्रावास में भी कोच की ऐसी ही करतूत सामने आई थी जिसके बाद कोच के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज किया था.