MeToo के चल रहे मामलों के बीच Google Inc में भी इस तरह के मामले में कार्रवाई का केस सामने आया है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले दो साल में कंपनी ने सेक्सुअल हैरेसमेंट के मामले में कार्रवाई करते हुए 48 लोगों को निकाला है. इसमें 13 लोग ऐसे हैं जो सिनियर मैनजर या फिर सिनियर पोस्ट पर तैनात रहे.

रिपोर्ट के मुताबिक, न्यूयॉर्क टाइम्स में इसे लेकर एक रिपोर्ट छपी, जिसके बाद पिचाई ने गूगल के एम्प्लाइज कएक ईमेल भेजकर जानकारी दी. बता दें कि इस रिपोर्ट में कहा गया है कि सर्ज इंजन कंपनी ने अपने तीन सिनियर एग्जीक्यूटिव को सेक्सुअल मिसकंडक्ट से बचाने के लिए रुपये की पेशकश की है.

हालांकि, पिचाई ने अपने ईमेल में कहा है कि इन 48 एम्प्लाई में किसी को भी एग्जिट पैकेज नहीं मिला है. गूगल के वाइस प्रेजिडेंट पीपल ऑपरेशन ऐलीन नॉटन ने कहा, कर्मचारियों ने अपनी नाम बिना जाहिर किए हुए कंपनी के इंटरनल टूल से अपने ऊपर हुए गलत व्यवहार की शिकायत की है. बता दें कि सभी 48 कर्मचारियों के एग्जिट फॉर्म में ऐलीन का भी सिग्नेचर है.

पिचाई ने अपने चिट्ठी में ये भी कहा कि गूगल ‘सुरक्षित और समावेशी कार्यस्थल’ प्रदान करने को लेकर ‘गंभीर’ है. उन्होंने इसमें आगे लिखा, ‘हम आपको आश्वस्त करना चाहते हैं कि हम यौन उत्पीड़न या अनुचित आचरण के बारे में आई हर शिकायत की समीक्षा करते हैं, हम जांच और कार्रवाई करते हैं.’