नई दिल्लीः भारत सरकार ने कोरोना वारयरस के संक्रमण को रोकने के लिए एक और बड़ा कदम उठाया है. गृह मंत्रालय ने देश में लगातार कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए प्रसिद्ध करतारपुर साहिब यात्रा पर 16 मार्च 2020 से ही अगले आदेश तक रो लगा दी है. सरकार ने रजिस्ट्रेशन को भी बंद कर दिया है. बता दें कि अब तक भारत में कोरोना के अब तक 105 मामले सामने आ चुके हैं. Also Read - Covid-19: प्रशांत किशोर ने शेयर किया लॉकअप में बंद मजदूरों का वीडियो, मांगा नीतीश का इस्तीफा

कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए सरकार ने रविवार रात 12 बजे से अंतरराष्ट्रीय सीमा के जरिए पाकिस्तान से आने वाले सभी तरह के यात्रियों पर रोक लगा दी है. गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा, “ भारत में कोविड19 के प्रकोप को देखते हुए और बीमारी के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए एहतियाती उपाय के तहत 16 मार्च 2020 (रविवार) रात 12 बजे से श्री करतारपुर साहिब की यात्रा और उसके लिए पंजीकरण को अगले आदेश तक अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया गया है.” Also Read - Lockdown: ट्राई का दूरसंचार कंपनियों को निर्देश, लॉकडाउन में बढ़ाई जाए प्लान वैधता

करतारपुर साहिब, जिसे मूल रूप से गुरुद्वारा दरबार साहिब के नाम से जाना जाता है, सिखों का एक पवित्र तीर्थस्थल है. माना जाता है कि सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव यहां अपने जीवन के अंतिम दिन बिताए थे. करतारपुर कॉरिडोर (Kartarpur Corridor) को बीते नवंबर में खोला गया. जिसके बाद से लाखों की संख्या में यहां श्रद्धालु पहुंचे हैं. Also Read - Covid-19: पुणे में कोरोना वायरस के 52 वर्षीय मरीज की मौत, महाराष्ट्र में मृतकों की संख्या नौ हुई

आपको बता दें कि इस गलियारे से भारतीय सिख यात्री बिना वीजा के सिर्फ परमिट लेकर करतारपुर साहिब तक की यात्रा कर सकते हैं इसकी स्थापना गुरु नानक देव ने की थी. कहा जाता है कि गुरुनानक देव ने अपने जीवन के अंतिम 18 वर्ष यहीं गुजारे थे.