नई दिल्ली। सरकार ने इनकम टैक्स रिटर्न भरने की आखिरी तारीख 31 अगस्त तक बढ़ा दी है. पहले आखिरी तारीख 31 जुलाई थी. 31 जुलाई की डेडलाइन खत्म होने के कुछ दिन पहले ही ये फैसला लिया गया है. सीबीडीटी के पास डेडलाइन बढ़ाने के लिए लगातार अनुरोध आ रहे थे. सीबीडीटी ने 5 अप्रैल 2018 को आईटी रिटर्न भरने का नोटिफिकेशन जारी किया था. एक्सपर्ट्स का कहना है कि नए फॉर्म के कारण रिटर्न फाइल करने में वक्त लग रहा है.

31 जुलाई थी आखिरी तारीख

सरकार ने व्यक्तिगत और ऑडिट की अनिवार्यता के नियम के दायरे में न आने वाले आयकरदाताओं के लिए आकलन वर्ष 2018-19 का आयकर रिटर्न दाखिल करने की तारीख एक महीने बढ़ाकर 31 अगस्त , 2018 कर दी है. नए आयकर रिटर्न फॉर्म को अप्रैल के शुरू में अधिसूचित किया गया था. ऐसे करदाताओं जिनके खातों का ऑडिट नहीं होना है, उन्हें अपना ई-आयकर रिटर्न 31 जुलाई तक भरना था.

अब एक पेज का होगा टैक्स रिटर्न फॉर्म, देखें कैसा होगा…

वित्त मंत्रालय ने बयान में कहा कि इस मामले पर विचार के बाद केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने इस श्रेणी के करदाताओं के लिए आयकर रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तारीख 31 जुलाई से बढ़ाकर 31 अगस्त कर दी है. दिल्ली के चार्टर्ड एकाउंटेंट आरके गौड़ ने कहा कि इस निर्णय से व्यक्तिगत, वेतनभोगी और ऑडिट की अनिवार्यता में न आने वाले छोटे कारोबारियों को सुविधा होगी.