नई दिल्ली| राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने 14 जनवरी को गृह मंत्री राजनाथ सिंह के आवास पर आयोजित राजनीतिक बैठक में हिस्सा नहीं लिया था बल्कि उस दिन आयोजित नियमित सुरक्षा समीक्षा बैठक में उन्होंने शिरकत की थी. यह जानकारी आज गृह मंत्रालय ने दी. दरअसल माकपा ने उनके राजनीतिक बैठक में हिस्सा लेने के आरोप लगाए थे. माकपा की त्रिपुरा इकाई ने सोमवार को चुनाव आयोग से आग्रह किया था कि भाजपा के चुनावी बैठक पर गौर करें. इसने आरोप लगाए कि बैठक में डोभाल ने हिस्सा लिया था. Also Read - देश में होगा बड़ी हथियार प्रणालियों का निर्माण, 15 अगस्त को आत्मनिर्भर भारत की रूपरेखा प्रस्तुत करेंगे पीएम: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

Also Read - राजनाथ सिंह के ऐलान पर पी चिदंबरम ने किया कटाक्ष, बोले- धमाके का वादा और फुसफुसाहट से खत्म

60 सदस्यीय त्रिपुरा विधानसभा का कार्यकाल 14 मार्च को समाप्त हो रहा है और राज्य में चुनाव होने वाले हैं. गृह मंत्रालय ने बयान जारी कर बताया कि इन खबरों की तरफ ध्यान आकर्षित किया गया कि गत रविवार को गृह मंत्री राजनाथ सिंह के आवास पर आयोजित एक राजनीतिक बैठक में अधिकारियों ने हिस्सा लिया.

10 रुपये के सिक्के पर आरबीआई का निर्देश, सभी 14 तरह के डिजाइन वैध

10 रुपये के सिक्के पर आरबीआई का निर्देश, सभी 14 तरह के डिजाइन वैध

Also Read - राजनाथ सिंह ने किया बड़ा ऐलान, रक्षा क्षेत्र के 101 उपकरणों के आयात पर बैन, बनेंगे आत्मनिर्भर

इसने कहा कि गृह मंत्रालय में परम्परा है कि गृह मंत्री रोज सुबह एक नियमित बैठक करते हैं जिसमें राष्ट्रीय सुरक्षा और कानून-व्यवस्था की समीक्षा होती है. मंत्रालय ने बताया कि इन बैठकों में आंतरिक सुरक्षा प्रतिष्ठान के वरिष्ठ सदस्य सम्मिलित होते हैं.

बयान में कहा गया कि परम्परा के मुताबिक 14 जनवरी को इस तरह की बैठक गृह मंत्री के आवास पर हुई थी जिसमें एनएसए सहित समूह के नियमित सदस्यों ने हिस्सा लिया था. बयान में कहा गया कि इन अधिकारियों ने गृह मंत्री के आवास पर उस दिन आयोजित किसी अन्य बैठक में हिस्सा नहीं लिया.

मुख्य चुनाव आयुक्त को लिखे पत्र में त्रिपुरा माकपा के सचिव बिजन धर ने आरोप लगाया था कि बीजेपी ने एनएसए को राजनीतिक कार्यों में लगाकर नियमों का उल्लंघन किया है.