नई दिल्ली. यदि आप मेल-एक्सप्रेस ट्रेनों की लेट-लतीफी से परेशान हैं तो आपको यह जानकर हैरानी होगी कि सिर्फ आपकी ट्रेन ही नहीं, बल्कि देश की वीवीआईपी ट्रेनों में शुमार राजधानी और शताब्दी एक्सप्रेस जैसी ट्रेनें भी देरी से चल रही हैं. यह हम नहीं कह रहे, बल्कि खुद सरकार इसकी पुष्टि कर रही है. रेल राज्यमंत्री राजन गोहेन ने आज राज्यसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में यह बताया है कि राजधानी और शताब्दी एक्सप्रेस जैसी ट्रेनें पिछले कई महीनों से लेट चल रही हैं. रेल राज्यमंत्री के अनुसार पिछले दो महीने से ज्यादा समय से 20 प्रतिशत से ज्यादा राजधानी और शताब्दी एक्सप्रेस रेलगाड़ियां देरी से चल रही हैं. राज्यसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में उन्होंने बताया कि शताब्दी और राजधानी एक्सप्रेस ट्रेनें अपने निर्धारित समय से क्रमश: 30 और 22 प्रतिशत देरी से चल रही हैं. ट्रेनों की लेट-लतीफी को लेकर केंद्रीय मंत्री का यह जवाब ऐसे समय में आया है जबकि पिछले महीने ही रेल मंत्री पीयूष गोयल ने एक नवंबर तक 90 फीसदी ट्रेनों को निर्धारित समय पर चलाने का निर्देश दिया था. Also Read - कोरोना के ख़िलाफ़ जंग में अब भारतीय रेलवे आया सामने, 20 हजार कोचों को बनाएगा आइसोलेशन वार्ड   

ट्रेन में करने जा रहे हैं सफर तो ये सूचना जरूर पढ़ लें Also Read - Coronavirus: ट्रेनों के 20,000 डिब्बों को अलग वार्ड में बदलने की तैयारी की जाए: रेलवे बोर्ड

रख-रखाव के काम पर फोड़ा ठीकरा
ट्रेनों की लेट-लतीफी के लिए सरकार ने प्रशासनिक अक्षमता के बजाए, ट्रेनों और पटरियों के रख-रखाव संबंधी काम पर ठीकरा फोड़ा है. राज्यसभा में दिए गए लिखित जवाब में रेल राज्यमंत्री राजन गोहेन ने बताया कि अप्रैल से जून के बीच व्यापक पैमाने पर रेलमार्गों के रखरखाव का काम चल रहा था, जिसके कारण रेलगाड़ियों का समय से परिचालन प्रभावित हुआ है. गोहेन ने बताया कि अप्रैल से जून 2018 के दौरान रेलमार्ग के रखरखाव का काम 46056 घंटे तक चला. यह पिछले साल की तुलना में 11.89 प्रतिशत अधिक था. उन्होंने बताया कि विलंब से चल रही रेलगाड़ियों का समय से परिचालन सुनिश्चित करने के लिए मंत्रालय के कर्मचारियों को इस बारे में संवेदनशील बनाने और रेलमार्ग के रखरखाव का काम जल्द पूरा करने सहित अन्य उपाय किए जाएंगे. Also Read - Corona को हराने भारतीय रेलवे भी हुआ तैयार, ट्रेन की बोगियों को आइसोलेशन वार्ड में किया तब्दील

70 प्रतिशत से ज्यादा राजधानी एक्सप्रेस लेट
राज्यसभा में ट्रेनों की लेट-लतीफी से संबंधित सवाल का जवाब देते हुए रेल राज्यमंत्री राजन गोहेन ने देश में विभिन्न जोनों के अंतर्गत चलने वाली राजधानी और शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेनों के लेट होने का आंकड़ा दिया है. केंद्रीय मंत्री के दिए जवाब के अनुसार, दक्षिण पूर्व मध्य क्षेत्र में चलने वाली 70 प्रतिशत राजधानी एक्सप्रेस ट्रेनें देरी से चल रही हैं. वहीं, पूर्वी क्षेत्र में 64 प्रतिशत शताब्दी एक्सप्रेस रेलगाड़ियां के संचालन में देरी हो रही है. मंत्री ने बताया कि दक्षिण मध्य क्षेत्र में चलने वाली सभी राजधानी एक्सप्रेस ट्रेनें आज की तारीख में देरी से चल रही हैं. वहीं, दक्षिण पूर्व क्षेत्र में सर्वाधिक 92 प्रतिशत शताब्दी एक्सप्रेस रेलगाड़ियां समय से चल रही हैं.

(इनपुट – एजेंसी)