नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के टेलीविजन इंटरव्यू को ‘पूर्वनियोजित’ कहने और न्यूज एजेंसी एएनआई की संपादक स्मिता प्रकाश पर सवाल खड़े करने को लेकर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राहुल गांधी पर तीखा हमला बोला है. इसके साथ ही जेटली ने राहुल से माफी की मांग की है.

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने एक के बाद एक ट्वीट कर राहुल पर निशाना साधा. उन्होंने लिखा, एक स्वतंत्र संपादक पर हमला करके इमरजेंसी लगाने वाली तानाशाह के पोते ने अपना असली डीएनए दिखा दिया है. अब क्यों छद्म उदारवादी मौन हैं. मुझे इस मुद्दे पर एडिटर गिल्ड की प्रतिक्रया का इंतजार है. इससे पहले बीजेपी ने भी राहुल से माफी की मांग की थी.

बीजेपी मीडिया प्रमुख अनिल बलूनी ने बुधवार देर रात दिए बयान में मोदी का इंटरव्यू लेने वाली पत्रकार का बचाव किया और कहा कि गांधी द्वारा मीडियाकर्मी पर निशाना साधना पत्रकारों के बारे में कांग्रेस की मानसिकता दर्शाता है. उन्होंने कहा, ‘यह स्वतंत्र पत्रकारिता के बारे में कांग्रेस की मानसिकता रही है. राहुल गांधी का डीएनए आपातकाल का है. उनकी पार्टी का पत्रकारिता को कुचलने का इतिहास रहा है. उन्हें अपनी ओछी टिप्पणियों के लिए देश के पत्रकारों से माफी मांगनी चाहिए.

राहुल गांधी ने लोकसभा में अपने भाषण में कहा कि मोदी ने ‘पूर्वनियोजित साक्षात्कार’ दिया और उन्होंने अपने संवाददाता सम्मेलन में फिर से इसका मजाक बनाया था. बुधवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रेससवार्ता करके एएनआई की संपादक स्मिता प्रकाश पर हमला बोलते हुए उन पर खुद ही सवाल करने और जवाब देने का आरोप लगाया था. जिसके बाद स्मिता प्रकाश ने भी ट्वीट करके कहा था कि उन्हें सबसे पुरानी पार्टी के मुखिया से ऐसी उम्मीद नहीं थी.