नई दिल्‍ली: विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज द्वारा इराक के मोसुल में 39 भारतीयों की हत्‍या की पुष्टि होने के बाद मृतकों के परिवारवालों का दर्द सामने आ रहा है. उनके जीवित होने की आए लगाए इन लोगों के दिलों में सरकार के खिलाफ आक्रोश है तो आगे जीवन कैसे चलेगा, इसकी चिंता. सरकार और विपक्षी पार्टियों के बीच इस मुद्दे पर आरोप-प्रत्‍यारोपों के बीच इन्‍हें दुख इस बात का है कि वर्षोंं तक उन्‍हें सच्‍चाई का पता तक नहीं चला. फिर भी एक उम्‍मीद थी कि शायद अपने लोगों को जिंदा देख सकें, आज यह उम्‍मीद भी हमेशा के लिए टूट गई. Also Read - दिल्ली की कोर्ट ने मुस्लिम युवाओं की भर्ती मामले में ISIS के 13 सदस्यों को सजा सुनाई

मृतकों में शामिल गुरचरण सिंह की पत्‍नी हरजीत कौर ने अमृतसर में बताया कि सरकार ने पहले उनके जीवित होने का विश्‍वास दिलाया था. अब उनके मरने की बात कर रही है. मुझे नहीं पता कि मैं इसमें क्‍या बोलूं. Also Read - ISI ने सेक्स वर्कर के जरिए गोरखपुर के शख्स को बनाया 'आतंकी', कहानी जानकर दंग रह जाएंगे आप

मृतक सुरजीत कुमार की पत्‍नी मेनका ने बताया कि मेरे पति 2013 में इराक गए थे और 2014 में उन्‍हें किडनैप कर लिया गया. हम सरकार से कुछ नहीं मांग रहे. मेरा एक छोटा बच्‍चा है, लेकिन जीने का कोई सहारा नहीं है.

वहीं बिहार के सीवान में मृतक विद्याभूषण तिवारी के चाचा पुरुषोत्‍तम तिवारी ने कहा कि हम 2014 से ही किसी तरह उसे भारत लाने की मांग कर रहे थे. तब सरकार ने कुछ नहीं किया और अब कह रही है कि उसकी मौत हो चुकी है.

जालंधर के देविंदर सिंह भी आईएसआईएस द्वारा मारे गए लोगों में शामिल हैं. उनकी पत्‍नी मनजीत कौर ने बताया कि मेरे पति 2011 में इराक गए थे. अंतिम बार मेरी उनसे 15 जून, 2014 को बातचीत हुई थी. हमें बार-बार ये बताया गया कि वे जिंदा हैं, लेकिन आज अचानक मौत की खबर आ गई.

एक अन्‍य मृतक के भाई ने बताया कि हमें अब तक यही बताया गया था कि आतंकियों ने मेरे भाई का अपहरण कर लिया है. इसके बाद उसके अता-पता के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली. दो बार मेरा भी डीएनए टेस्‍ट किया गया, लेकिन आगे कोई जानकारी नहीं दी गई.

इससे पहले मंगलवार को लोकसभा में विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने बताया कि इराक के मोसुल में 2014 में अगवा किए गए 39 भारतीयों की हत्‍या हो चुकी है. 39 में से 38 भारतीयों का शव निकालकर उनका डीएनए टेस्‍ट किया गया. इसके बाद उनकी मौत की पुष्टि की गई. मंत्री ने बताया कि सभी भारतीयों का शव अमृतसर लाया जाएगा.