जोधपुर: वायुसेनाध्यक्ष बी.एस. धनोआ ने कहा कि संचार सेवा के उपग्रह जीएसएलवी-7ए के प्रक्षेपण से वायुसेना की नेटवर्किंग क्षमता मजबूत होगी. धनोआ ने बुधवार को मीडियाकर्मियों से बातचीत में कहा, ‘यह हमारी नेटवर्किंग क्षमताओं में जबरदस्त उछाल है. यह हमारे संचार (क्षमताओं) के लिए बहुत फायदेमंद है.’ Also Read - इंडियन एयरफोर्स में 1875 महिला अफसरों में से 10 फाइटर जेट पायलट: भारत सरकार

वायुसेनाध्यक्ष धनोआ ने कहा कि हमारे पास संचार क्षमताओं के कई तरह के प्लेटफार्मस उपलब्ध हैं. उपग्रह के जरिए संचार सुगम बनाने के लिये प्लेटफार्म बनाया गया है. उन्होंने कहा कि इस संचार तकनीक के जरिए विमानों की संचार क्षमताओं में वृद्धि संभव हो सकेगी. बुधवार भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) आंध्रप्रदेश के श्रीहरिकोटा से जीएसएलवी—7ए को लॉन्च करेगा. Also Read - आर्मी ने एलएसी पर चीन से तनाव के बीच लद्दाख में लंबी सर्दी के लिए की तैयारी

धनोआ बुधवार को जोधपुर के वायुसेना स्टेशन पर भारतीय वायुसेना और रशिया फेडरेशन एयरोस्पेस फोर्स के साथ संवाद के लिए पहुंचे हैं. 10-21 दिसम्बर तक दोनों सेनाओं का संयुक्त अभ्यास ‘एवियाइंद्रा-2018 आयोजित हो रहा है. Also Read - MS Dhoni ने राफेल के IAF में एंट्री पर जताई खुशी, किया दिल जीतने वाला ये मैसेज