नई दिल्ली. वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद की शनिवार को हुई बैठक में कई उत्पादों की दरों में काफी बदलाव आए हैं. बैठक के बाद वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि सैनेटरी नैपकिन को जीएसटी से मुक्त कर दिया गया है. पहले इसे 12% के स्लैब में रखा गया था. नई बदलाव नीति 27 जुलाई से लागू होगी. परिषद की अगली बैठक 4 अगस्त को होगी. Also Read - GST on  Hand Sanitizer: कोरोन काल में जिस सैनिटाइजर से रख रहे हैं खुद को सेफ, केंद्र सरकार ने उस पर लगाया 18 % का जीएसटी

हैंडबैग, ज्वेलरी बॉक्स, पेटिंग के लकड़ी के बॉक्स, हाथ से बने लैंप से जीएसटी घटाकर 12% कर दिया गया है. इसके अलावा, आयातित यूरिया पर 5% की कटौती की गई है. वॉशिंग मशीन पर जीएसटी 28% से घटाकर 18% कर दिया गया है. इसके अलावा, आयातित यूरिया पर 5% की कटौती की गई है. वॉशिंग मशीन पर जीएसटी 28% से घटाकर 18% कर दिया गया है. Also Read - CBSE ने सिलेबस से हटाए GST, राष्ट्रवाद, धर्मनिरपेक्षता के अध्याय, बच्चे फिलहाल नहीं पढ़ेंगे ये पाठ

इन पर पड़ा असर
परिषद ने जूते से लेकर रेफ्रिजरेटर और इलेक्ट्रानिक सामान तक के स्लैब में कमी की है. लिथियम ऑयन बैटरी, वैक्‍यूम क्‍लीनर, फूड ग्राइंडर, मिक्‍सर, स्‍टोरेज वाटर हीटर पर अब 18 फीसदी जीएसटी लगेगा. हेड ड्रायर, हैंड ड्रायर, पेंट, वार्निश, वाटर कूलर, मिल्‍क कूलर, आइसक्रीम कूलर पर भी जीएसटी 10 फीसदी घटा दिया गया है. परफ्यूम, टॉयलेट स्‍प्रे आदि उत्‍पाद पर भी 10 फीसदी कम जीएसटी लगेगा. 500 की जगह 1000 रुपये से कम मूल्य के जूते पर 12 से घटाकर 5 प्रतिशत व पेंट, रेफ्रिजरेटर, वैक्यूम क्लीनर, 25 इंच तक की टीवी सेट आदि एक दर्जन इलेक्ट्रॉनिक्स सामानों पर 28 से घटाकर 18 प्रतिशत जीएसटी कर दिया गया है.

जीएसटी काउंसिल ने फैसला लिया है कि 5 करोड़ तक का टर्न ओवर वाले कारोबारियों को मासिक तौर पर जीएसटी जमा करना होगा. लेकिन उन्हें तिमाही रिटर्न फाइल नहीं करना पड़ेगा. वित्तमंत्री ने कहा कि सरलीकरण सरकार की प्राथमिकता है. जल्द ही ट्रांसपोर्टरों के लिए जीएसटीएन से RFID लिंक किया जाएगा. इससे उनकी परेशानियां कम होंगी.