अहमदाबाद: अहमदाबाद शहर के एक हृदयरोग विशेषज्ञ ने बुधवार को एक रोगी की रोबोट नियंत्रित उपकरणों की मदद से 35 किलोमीटर दूर स्थान से ‘टेलीरोबोटिक कोरोनरी’ सर्जरी की. हृदय रोग विशेषज्ञ ने दावा किया कि यह ‘विश्व की पहली’ ‘टेलीरोबोटिक कोरोनरी’ सर्जरी है.

गांधीनगर में अक्षरधाम मंदिर परिसर में बैठे डा. तेजस पटेल ने महिला रोगी की सर्जरी की जो कि अहमदाबाद में एपेक्स हर्ट इंस्टीट्यूट के आपरेशन थिएटर में थी. डा. पटेल ने कुछ मिनट चली इस सर्जरी के लिए ‘टेलीरोबोटिक्स’ प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल किया. रोबोटिक प्रणाली आपरेशन थिएटर में रखी थी और वह उससे हाईस्पीड वायरलेस इंटरनेट से जुड़े हुए थे. डा. पटेल ने मंदिर में बैठकर बटन इधर उधर घुमाये जिससे मरीज की धमनियां साफ हो गईं और उनमें स्टेंट डाल दिया गया.

साइंटिस्‍ट्स का दावा, मेडिसिनल प्‍लांट से घटा सकते हैं वायु प्रदूषण, काम के हैं ये पौधे

भारत ने चिकित्सा विज्ञान में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की
डॉ. पटेल ने दावा किया कि भारत ने चिकित्सा विज्ञान में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की है. यह विश्व का पहला ‘परक्युटेनियस कोरोनरी इंटरवेंशन’ है जो कि दूर स्थान पर बैठकर किया गया. आपरेशन अक्षरधाम मंदिर में एक स्क्रीन पर दिखाया गया जहां गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी भी मौजूद थे. इस मौके पर रूपाणी ने कहा कि गुजरात के लिए यह गर्व की बात है कि राज्य में ऐसी उपलब्धि हासिल हुई है.

मोटापे की वजह से बच्चों में बढ़ रहा इस बीमारी का खतरा, रहें सचेत…

सीमा पर सैनिकों के लिए उपयोग की जा सकती है यह सुविधा: रूपाणी
मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा कि सरकार इस तरह की प्रौद्योगिकियों का पता लगाएगी ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि दूरदराज के इलाकों में भी अत्याधुनिक स्वास्थ्य देखभाल उपलब्ध कराई जा सके. रूपाणी ने कहा कि यह उन सीमाओं पर हमारे सैनिकों के लिए भी उपयोग किया जा सकता है, जिन्हें अत्याधुनिक स्वास्थ्य देखभाल की आवश्यकता हो सकती है.