अहमदाबाद: मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने राज्य में नवरात्रि के अवसर पर होने आयोजनों पर इस वर्ष कोरोना वायरस के मद्देनजर लगाई रोक को उचित बताते हुए शुक्रवार को कहा कि उनकी सरकार समारोहों के बजाए लोक स्वास्थ्य को अधिक प्राथमिकता देती है. Also Read - आज गुजरात को कई परियोजनाओं की सौगात देंगे पीएम मोदी, ‘किसान सूर्योदय योजना’ को भी करेंगे शुरू

गौरतलब है कि गुजरात सरकार ने राज्यभर में नवरात्रि के मौके पर होने वाले गरबा आयोजनों पर रोक लगा दी है. नौ दिवसीय नवरात्रि उत्सव आरंभ होने के एक दिन पहले रूपाणी ने यह कहा. राज्य सरकार ने कहा है कि व्यावसायिक गरबा आयोजनों के साथ-साथ आवासीय सोसाइटियों में होने वाले गरबा आयोजनों की भी इजाजत नहीं दी जाएगी. Also Read - तनिष्क स्टोर में घुसकर मालिक से कुछ लोगों ने मंगवाई माफ़ी, फ़ोन पर भी मिली धमकी

रूपाणी ने वीडियो संदेश में कहा, ‘‘गुजरात के लोगों के लिए नवरात्रि का विशेष महत्व होता है. इस समय लोग गरबा का बेसब्री से इंतजार करते हैं. लेकिन इस बार हालात अलग हैं. पूरी दुनिया कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ रही है. हम भी इस महामारी से लड़ रहे हैं. लोक स्वास्थ्य पर विशेष जोर देते हुए हमने इस बार नवरात्रि आयोजनों की अनुमति नहीं दी है.’’ Also Read - Noida की लड़की दोस्‍त से मिलने गुजरात पहुंची, लेकिन युवक ने उसे पुलिस से मिलवा दिया

उन्होंने आगे कहा, ‘‘लोक स्वास्थ्य हमारी प्राथमिकता है और हमें सुनिश्चित करना होगा कि कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए अब तक हमने जो प्रयास किए हैं वे बेकार न जाएं.’’

मुख्यमंत्री ने लोगों से सहयोग करने की अपील की और उम्मीद जताई कि वे हालात की गंभीरता को समझेंगे. गुजरात में 15 अक्टूबर तक कोरोना वायरस के कुल 1,56,283 मामले थे और अब तक यहां 3,609 संक्रमितों की मृत्यु हो चुकी है.