अहमदाबाद। एयर ओडिशा ने केंद्र सरकार की क्षेत्रीय हवाई संपर्क योजना ‘उड़ान’ के तहत शनिवार को अपनी पहली उड़ान भरी. गुजरात के मु्ंद्रा-अहमदाबाद के बीच शुरू की गई इस पहली उड़ान को राज्य के मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने हरी झंडी दिखाई. भुवनेश्वर की यह कंपनी 50 क्षेत्रीय वायुमार्गों पर परिचालन करेगी. पिछले मंगलवार कंपनी को विमानन क्षेत्र नियामक नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने समयबद्ध तरीके से उड़ान परिचालन करने वाली कंपनी के तौर पर काम करने की अनुमति दी है.

एयर ओडिशा का प्रवर्तक ओडिशा का राधाकांत पानी परिवार है. कंपनी ने अहमदाबाद की जीएसईसी एविएशन और मोनार्क नेटवर्क को 60% हिस्सेदारी दी है. एयर डेक्कन के संस्थापक जी. आर. गोपीनाथ ने बताया कि मुंद्रा के अलावा कंपनी ने अहमदाबाद-जामनगर मार्ग पर भी उड़ान सेवा शुरू की है और जल्द ही उसकी योजना अहमदाबाद से दीव के बीच भी उड़ान शुरू करने की है.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दीव की उड़ान का उद्घाटन करने की रजामंदी दी है. यह कार्यक्रम 25 फरवरी को होना है. जीएसईसी एविएशन और मोनार्क नेटवर्क ने एयर डेक्कन और एयर ओडिशा दोनों में ‘रणनीतिक निवेश’ किया है.

आज के उद्घाटन कार्यक्रम से इतर रुपानी ने यहां पत्रकारों से कहा कि उड़ान योजना का उद्देश्य क्षेत्रीय हवाई संपर्क के माध्यम से आम लोगों को हवाई यातायात की सेवा देना है. अभी तक राजकोट, भावनगर, जामनगर और सूरत का मुंबई के साथ बेहतर हवाई संपर्क था. लेकिन इस सेवा (आज शुरु हुई उड़ान) से सभी शहर अहमदाबाद से जुड़ जाएंगे.

ये भी पढ़ें- पीएम बताएं कि नीरव से जुड़ा इतना बड़ा घोटाला क्यों और कैसे हुआ?: राहुल

इन सेवाओं के परिचालन के लिए एयर ओडिशा ने 19 सीटों वाले बीचक्राफ्ट 1900डी विमान लगाए हैं. आने वाले दिनों में कंपनी अहमदाबाद से भावनगर और सूरत के लिए भी सेवाएं परिचालित करेगी.