अहमदाबाद: गुजरात में यहां स्थित राष्ट्रीय डिजाइन संस्थान (एनआईडी) ने सात फरवरी को निर्धारित अपना सालाना दीक्षांत समारोह अप्रत्याशित परिस्थितियों के चलते टाल दिया है. कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुखर आलोचक और प्रख्यात नृत्यांगना मल्लिका साराभाई को मुख्य अतिथि के तौर पर आमंत्रित किया गया था. संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को लेकर भी साराभाई ने भाजपा सरकार की आलोचना की है. एनआईडी के एक अधिकारी ने बताया कि दीक्षांत समारोह की नयी तारीख के बारे में शीघ्र ही फैसला किया जाएगा.

कार्यक्रम के लिए साराभाई को दिए गए आमंत्रण के बारे में पूछे जाने पर एक अधिकारी ने मंगलवार को कहा, ‘‘विभिन्न लोगों के सुझाव पर कुछ लोगों को संभावित मुख्य अतिथि चुना गया था और अंतिम निर्णय दी गई तारीखों पर उनकी उपलब्धता के आधार पर लिया गया था.’’

‘लव जिहाद’ जैसा मामला नहीं आया सामने, किसी को कोई भी धर्म चुनने की आज़ादी: केंद्र सरकार का लिखित में जवाब

इससे पहले एनआईडी ने स्नातक की उपाधि हासिल कर रहे छात्रों को एक पत्र में कहा, ‘‘एनआईडी, अहमदाबाद की संचालन परिषद की ओर से हमें आपको यह सूचित करते हुए खेद है कि शुक्रवार सात फरवरी 2020 को निर्धारित दीक्षांत समारोह अप्रत्याशित परिस्थितियों के चलते टाल दिया गया है.’’ अधिकारी ने बताया कि यह फैसला संस्थान की संचालन परिषद ने लिया. संचालन परिषद में वाणिज्य एवं उद्योग, मानव संसाधन विकास और इलेक्ट्रॉनिक्स एवं आईटी मंत्रालयों के वरिष्ठ अधिकारी तथा उनके सदस्य शामिल हैं.

गौरतलब है कि प्रख्यात नृत्यांगना मृणालिनी साराभाई और अंतरिक्ष वैज्ञानिक विक्रम साराभाई की बेटी मल्लिका साराभाई मोदी के गुजरात के मुख्यमंत्री रहने के समय से उनकी मुखर आलोचक हैं. उन्होंने भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी के खिलाफ निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में गांधीनगर सीट पर 2009 का लोकसभा चुनाव लड़ा था, हालांकि वह हार गई थी. वह सीएए के खिलाफ प्रदर्शनों में भी शामिल हुई हैं. एनआईडी केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के उद्योग प्रोत्साहन एवं आंतरिक व्यापार विभाग के तहत एक स्वायत्त संस्थान है. इसकी गांधीनगर और बेंगलुरु में शाखाएं हैं.