अहमदाबाद. गुजरात विधानसभा चुनाव बीजेपी और कांग्रेस के वर्चस्व की लड़ाई बन गई है. जहां लगातार जीत का स्वाद चखने वाली बीजेपी अपने विजयरथ को लेकर आगे बढ़ रही है. वहीं कांग्रेस की उम्मीद बनकर राहुल गांधी मैदान में धुआंधार पारी खेल रहे हैं. इस बार जनता के मूड को समझ पाना दोनों ही पार्टियों के लिए मुश्किल हो रहा है. ऐसे में बीजेपी ने सीधे जनता तक पहुंचने की कोशिश कर रही है और उन्होंने इसके लिए पीएम नरेंद्र मोदी की चिठ्ठी का सहारा लिया है. नरेंद्र मोदी ने गुजरात की जनता को चिट्ठी के माध्यम से संदेश दिया है. पीएम मोदी की इस चिट्ठी को जन जन तक पहुंचाया जा रहा है.Also Read - Winter Session of Parliament Live Updates: चौथे दिन भी हंगामा और नारेबाजी, विपक्षी नेताओं ने राज्सभा से वॉकआउट किया

क्या लिखा है मोदी ने? Also Read - Mamata Banerjee बोलीं अब कोई UPA नहीं बचा, कांग्रेस ने कहा- सिर्फ अपने बारे में सोचने वाले BJP को ही मजबूत करेंगे

जाति और संप्रदाय के बजाय गुजरात के विकास को देखते हुए अपना वोट दें. गुजरात की जनता को यह याद करना चाहिए कि आज से 22 साल पहले गुजरात की दशा थी. जब यूपीए की सरकार थी तब कैसे राज्य की अनदेखी हुई थी. लेकिन फिर भी गुजरात का विकास हुआ. आज जातिवाद की जगह विकासवाद को देखकर वोट जनता को देना चाहिए. परिवारवाद को बढ़ावा न देकर आप सभी विकासवाद को बढ़ावा दें. उन्होंने लिखा कि गुजरात मेरी आत्मा और भारत परमात्मा है.गुजरात में जिनकी उम्र 20 के आसपास है उन्हें पता भी नहीं होगा कि गुजरात पहले सांप्रदायिक और जातिवादी जैसी पूर्वाग्रहों से फंसा था. एक बार फिर जनता बीजेपी को राज्य की सेवा और विकास की गति को आगे बढ़ाने का मौका प्रदान करे. Also Read - कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने औषधीय खेती को बढ़ावा देने पर दिया जोर, किसानों की आमदनी बढ़ाने के भी बताए उपाय

कांग्रेस के पाले में युवा नेता

कांग्रेस इस बार गुजरात में अपनी पैठ को मजबूत बनाने के लिए अलग-अलग जाति के नेताओं को एक मंच पर एकत्र करने में लगी है. जिसमें पिछड़ा वर्ग(ओबीसी) के नेता अल्पेश ठाकोरे के कांग्रेस में शामिल हो गए हैं. वहीं हार्दिक पटेल समेत कई अन्य नेताओं ने बीजेपी के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है.

लेकिन पीएम मोदी अपने ही गढ़ में कांग्रेस को जमने नहीं देना चाहते हैं. क्योंकि साल 2019 में लोकसभा का चुनाव है. अगर परिणाम विपरीत आता है तो मोदी की राह दिल्ली तक पहुंचना इतना आसान नहीं होगा. जहां एक तरफ राहुल गांधी गुजरात में अल्पेश, जिग्नेश और हार्दिक पटेल के सहारे जीत का परचम लहरना चाहते हैं. वहीं पिछले दो दशक से गुजरात की कुर्सी पर कब्जा करने वाली बीजेपी के पीएम मोदी ने खुद मोर्चा संभाला है. फिलहाल सरकार किसकी होगी यह तो आने वाला समय बताएगा.