नई दिल्ली: उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा फैजाबाद जिले का नाम अयोध्या करने की घोषणा करने के कुछ घंटे बाद गुजरात की सरकार ने मंगलवार को कहा कि वह अहमदाबाद का नाम कर्णावती करने की इच्छुक है, बशर्ते कोई कानूनी बाधा नहीं आए. उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने गांधीनगर में संवाददाताओं से कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार अहमदाबाद का नाम बदलने के लिए तैयार है अगर वह कानूनी बाधाओं को पार कर लेती है और आवश्यक समर्थन हासिल कर लेती है.

पटेल ने संवाददाताओं से कहा, लोगों में अब भी ऐसी भावना है कि अहमदाबाद का नाम कर्णावती किया जाना चाहिए. कानूनी बाधाओं को पार करने में अगर हमें आवश्यक समर्थन मिलता है तो हम महानगर का नाम बदलने के लिए हमेशा तैयार हैं.

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के शहर इलाहाबाद को प्रयागराज किए जाने के बाद फैजाबाद का नाम भी बदला जाएगा. यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को अयोध्या में दीपोत्सव के दौरान ये ऐलान किया. अब पूरे जिले को फैजाबाद की बजाय अयोध्या ही कहा जाएगा. अब एक हिस्से की बजाय पूरे जिले को अयोध्या नाम से जाना जाएगा. इससे पहले यूपी सरकार ने मुगलसराय का नाम बदल कर पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर कर दिया था.

पिछले दिनों हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला का नाम बदलने की भी चर्चा हुई थी. शिमला का नाम बदले जाने को लेकर हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने संकेत दिए थे.. ठाकुर शिमला का नाम बदलकर श्यामला करना चाहते हैं. दशहरा मनाने जखु मंदिर पहुंचे सीएम जयराम ठाकुर ने अपने भाषण में कहा था कि ब्रिटिश राज से पहले शिमला को श्यामला के नाम से जाना जाता था. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार शिमला का नाम बदलने के संबंध में जनता से राय लेगी.

वहीं भाजपा नेता एवं राज्य के स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार ने कहा था कि देश के विभिन्न क्षेत्रों के पौराणिक आधार पर नाम थे, उन नामों को फिर रखने में कोई बुराई नहीं है .शिमला का नाम श्यामला करने को लेकर जारी बहस के बारे में उन्होंने कहा कि इसके बारे में अगर लोगों की राय बनती है, तब इस पर विचार करने में कोई बुराई नहीं है.