नई दिल्ली/भुज: इंटेलीजेंस एजेंसियों ने गुरुवार को चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि पाकिस्तान के अंडरवाटर कॉम्बेट (पानी के अंदर युद्ध) में प्रशिक्षित कमांडो गुजरात से सटी कच्छ की खाड़ी में प्रवेश कर गए हैं. इससे निपटने के लिए नेवी, कोस्‍टगार्ड, बीएसएफ समेत अन्‍य सुरक्षा एजेंसियों को हाई अलर्ट पर रखा गया है. वहीं, गुजरात पुलिस ने कांडला बंदरगाह और अन्य महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी है.

इंटेलिजेंस सूत्रों के मुताबिक, बीएसएफ और इंडियन कोस्‍टगॉर्ड समेत अन्‍य सुरक्षा एजेंसियों को हाई अलर्ट पर रखा गया. इंटेलिजेंस से मिले इनपुट्स के मुताबिक, पाक के ट्रेन्‍ड एसएसजी कमांडो या आतंकवादी कच्‍छ या सरक्रीक इलाके में छोटी बोटों को उपयोग करते हुए घुस सकते हैं. इसके चलते इलाके में चौकसी और पेट्रोलिंग बढ़ा दी गई है.

गुजरात पुलिस ने कांडला और मुंद्रा बंदरगाह की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाई
समुद्र के रास्ते आतंकवादियों की संभावित घुसपैठ की खुफिया जानकारी मिलने के बाद गुजरात पुलिस ने कांडला बंदरगाह, कच्‍छ जिले में मुंद्रा बंदरगाह और अन्य महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी है. अधिकारियों ने गुरुवार को बताया कि यह कदम भारतीय नौसेना द्वारा समुद्री रास्ते से संभावित आतंकवादी हमले की चेतावनी दिए जाने के कुछ दिनों बाद उठाया गया है.

अन्य महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों की भी सुरक्षा बढ़ा
पुलिस महानिरीक्षक (सीमा रेंज) डी बी वाघेला ने कहा, हमें समय-समय पर आतंकवादियों की संभावित घुसपैठ की खुफिया जानकारी मिली है और हमने कांडला बंदरगाह समेत अन्य महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों की सुरक्षा बढ़ा दी है. एक अन्य अधिकारी ने बताया कि कच्छ जिले में मुंद्रा बंदरगाह भी ऐसी जगहों में शामिल है, जहां की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाई गई है.

पाकिस्तानी कमांडोज ने हारामी नाला क्रीक क्षेत्र से कच्छ की खाड़ी में घुसे
पोर्ट ट्रस्ट प्रशासन ने एक मैसेज में कहा कि माना जा रहा है कि पाकिस्तान के प्रशिक्षित कमांडोज ने हारामी नाला क्रीक क्षेत्र से कच्छ की खाड़ी में प्रवेश कर लिया है. अतिसंवेदनशील चेतावनी जारी करते हुए कहा गया, “इसलिए गुजरात प्रांत, डीपीटी (दीनदयाल पोर्ट ट्रस्ट) पर स्थित सभी जहाजों पर किसी अप्रिय स्थिति से बचने और सुरक्षा के लिए हर संभव कार्यवाई करने का निर्देश दिया गया है.”

सभी शिपिंग प्राधिकरणों और लोगों को सतर्क रखने के निर्देश
कच्छ में कांडला पोर्ट ट्रस्ट के नाम से प्रचलित डीपीटी के सिग्नल अधीक्षक के हस्ताक्षरित पत्र में सभी शिपिंग प्राधिकरणों को कांडला में स्थित उनके जहाजों तथा बंदरगाह पहुंचने वाले लोगों को सतर्क रहने और आतंक के खिलाफ नजर रखने और किसी भी संदिग्ध गतिविधि को नजदीकी तटरक्षक स्टेशन, मरीन पुलिस स्टेशन और तट नियंत्रण पर सूचित करने का निर्देश दिया गया है.

संदिग्ध गतिविधि दिखते ही इन्‍हें करें सूचित
पत्र में कांडला पोर्ट स्टीमशिप एजेंट्स एसोसिएशन (केपीएसएए) को द्रव भंडारण क्षमता वाले ट्रेड एसोसिएशन, कस्टम हाउस एजेंट एसोसिएशन, मजदूरों, नाव संचालकों और अन्य को सूचित करने के लिए कहा है. पत्र में कांडला बंदरगाह का प्रबंधन करने के लिए अनुबंधित कंपनी नीदरलैंड्स की वैन ऊर्ड को सभी मछुआरों को सतर्क करने और चैनल में जहाज को सहयोग करने और सतर्क रहने तथा किसी संदिग्ध गतिविधि पाए जाने पर इसकी सूचना पोर्ट कंट्रॉल को देने का निर्देश दिया गया है. इसी बीच खुफिया सूचना मिलने के बाद गुजरात में संचालित व्यापारिक इकाइयों को सचेत कर दिया गया है. सुरक्षा एडवाइजरी के एअनुसार, मुंद्रा पोर्ट अलर्ट-1 स्तर पर निगरानी कर रही है. इसने समुद्र तट पर भी तैनाती बढ़ा दी है.

भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़ता तनाव
कच्छ की खाड़ी में पाकिस्तान के अंडरवाटर कॉम्बेट में प्रशिक्षित कमांडोज के प्रवेश की खुफिया जानकारी मिलने के बाद गुजरात राज्य में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है और प्रशासन ने कांडला बंदरगाह के साथ-साथ अन्य स्थानों पर कड़ी सुरक्षा कायम करने के निर्देश दिए हैं. यह चेतावनी जम्मू एवं कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को खत्म करने के नई दिल्ली के फैसले के बाद भारत और पाकिस्तान में बढ़ते तनाव के बीच आया है. भारत ने कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तानी नेताओं के युद्ध को भड़काने वाले बयानों को देखते हुए देश में सुरक्षा बढ़ा दी है.