नई दिल्लीः दिल्ली में बढ़ते कोरोना वायरस के मामलों के चलते पिछले करीब 1 महीने से हरियाणा सरकार ने दिल्ली से लगी राज्य की सभी सीमाओं को सील कर रखा है. लेकिन, लॉकडाउन 5.0, जिसे सरकार ने अनलॉक 1 (Unlock 1) का नाम दिया है, के पहले दिन दिल्ली-गुरुग्राम (Delhi-Gurugram) आने-जाने वालों की बॉर्डर पर लंबी कतार देखने को मिली. अनलॉक 1 में सरकार ने कई लॉकडाउन के कई नियमों में ढील दी है. जिनमें एक जगह से दूसरी जगह आने-जाने की अनुमति शामिल है. ऐसे में दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर (Heavy traffic at Delhi-Gurugram Border) पर भी वाहनों की लंबी कतार देखने को मिली.Also Read - दिल्ली: यमुना में पानी का जलस्तर घटा, ‘चेतावनी’ के निशान से अब भी ऊपर

बता दें अनलॉक 1 के तहत हरियाणा सरकार (Haryana Government) ने भी अंतरराज्यीय और अंतरजनपदीय वाहनों को राज्य में आने-जाने की अनुमति दे दी है. जिसके चलते दिल्ली-गुरुग्राम सीमा पर इसका भारी असर देखने को मिला. हरियाणा सरकार के इस फैसले के बाद बड़ी संख्या में वाहनों की आवाजाही शुरू हो गई. Also Read - Sagar Murder Case chargesheet: 170 पेज की चार्जशीट में ओलंपियन सुशील कुमार मुख्‍य आरोपी

Also Read - Punjab से दिल्‍ली आए अकाली दल के कई पूर्व नेताओं ने थामा बीजेपी का दामन

हालांकि, राज्य सरकार के फैसले के बाद यात्रियों का आरोप है कि खट्टर सरकार की घोषणा के बाद भी उन्हें हरियाणा की सीमा में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जा रही है. बॉर्डर पर तैनात पुलिसकर्मी सिर्फ ऐसे हो लोगों को राज्य में प्रवेश की अनुमति दे रहे हैं, जिनके पास ‘पास’ हैं. एक यात्री ने कहा, ‘राज्य सरकार ने कल घोषणा की कि अंतर-राज्यीय यात्रा की अनुमति है, लेकिन आज वे हमें अनुमति नहीं दे रहे हैं क्योंकि हमारे पास किसी भी तरह का आवाजाही संबंधित पास नहीं है.’

बता दें हाल ही में हरियाणा सरकार की ओर से घोषणा की गई थी कि केंद्र सरकार के फैसले के अनुसार राज्य में 30 जून तक के लिए लॉकडाउन के नियम जारी रहेंगे. लॉकडाउन 5.0 मतलब अनलॉक 1 के तहत जिन छूटों को प्रावधान है, उसे चरणबद्ध तरीके से राज्य में लागू किया जाएगा. राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम और जिला मजिस्ट्रेट और संबंधित विभाग द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार चरणबद्ध तरीके से प्रतिबंधित क्षेत्र खोले जाने हैं.