गुवाहाटी : गुवाहाटी पुलिस ने विहिप के पूर्व नेता प्रवीण तोगड़िया के अगले दो महीनों तक यहां किसी सार्वजनिक कार्यक्रम में शरीक होने पर मंगलवार को पाबंदी लगा दी. दरअसल, पुलिस को आशंका है कि उनके भड़काऊ भाषण शांति व्यवस्था में खलल डाल सकते हैं. Also Read - Muzaffarnagar Riots-2013: कोर्ट ने मंत्री, बीजेपी MLA समेत 12 नेताओं के खिलाफ केस वापस लेने की इजाजत दी

Also Read - राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राम मंदिर के लिए दिए 5 लाख रुपए, दान देने वाले पहले भारतीय बने, VHP बोली...

गुवाहाटी पुलिस आयुक्त हीरेन चंद्र नाथ ने तोगड़िया की यात्रा की योजना और 19 जुलाई तक यहां कई कार्यक्रमों में उनके शरीक होने के मद्देनजर सीआरपीसी की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा जारी की है. इन कार्यक्रमों का आयोजन तोगड़िया के नवगठित संगठन अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद (एएचपी) कर रही है. Also Read - 'राम मंदिर के लिए चंदा जुटाने के काम में जुटेंगे 5 लाख स्वयंसेवक'

अध्यक्ष पट से हटने के बाद प्रवीण तोगड़िया ने छोड़ा विश्व हिंदू परिषद

नाथ ने कहा है कि हिंदुत्व नेता संवेदनशील और भड़काऊ भाषण देते रहे हैं. इस तरह के भड़काऊ भाषण धार्मिक अल्पसंख्यक समुदाय की भावनाओं को भड़का सकते हैं और उनके बीच असुरक्षा की भावना पैदा कर सकते हैं. इससे कानून-व्यवस्था में खलल पड़ने की आशंका है. पुलिस आयुक्त ने कहा कि यदि तोगड़िया को आईटीए मचखोवा ऑडीटोरियम में प्रस्तावित कार्यक्रमों को या 19 जुलाई को गुवाहाटी प्रेस क्लब में संवाददाताओं को संबोधित करने की इजाजत दी जाती है तो यहां और इलाके में शांति व्यवस्था में खलल पड़ सकती है.

तोगड़िया ने दिए राजनीतिक दल बनाने के संकेत, पीएम मोदी से अल्पसंख्यक आयोग भंग करने की मांग

उन्होंने कहा कि तोगड़िया के किसी संभावित भड़काऊ भाषण से राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर के अंतिम मसौदा के प्रस्तावित प्रकाशन के दौरान भी स्थिति प्रभावित हो सकती है. नाथ ने तोगड़िया को एएचपी द्वारा आयोजित कार्यक्रमों से दूर रहने का निर्देश दिया. साथ ही, बगैर उपयुक्त इजाजत के मीडिया के किसी भी माध्यम से कोई बयान देने से बचने को कहा.

सड़क किनारे बेहोश मिले VHP नेता प्रवीण तोगड़िया, अस्‍पताल में भर्ती

उन्होंने कहा कि यह आदेश गुवाहाटी पुलिस कमिश्ननरी क्षेत्र में 17 जुलाई से दो महीनों तक प्रभावी रहेगा. इसके अलावा पुलिस ने समूचे गुवाहाटी में एएचपी के सभी प्रस्तावित कार्यक्रमों को रद्द कर दिया है. हालांकि, नाथ ने कहा कि तोगड़िया यदि उनके आदेश से असंतुष्ट हैं तो वह आपत्ति दर्ज कराने के लिए उनके समक्ष उपस्थित हो सकते हैं.