बेंगलुरु: कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी ने बुधवार को कहा कि उनकी सरकार की प्राथमिकता किसानों को बचाना है. उन्होंने 15 दिन के अंदर किसानों की कर्ज माफी की अपनी प्रतिबद्धता को पूरा करने का वादा किया और इस बात पर जोर दिया कि अब वह ‘‘पीछे हटने वाले नहीं’’ हैं.

किसान समुदाय के लिए चुनाव पूर्व आश्वासन को पूरा करने में कथित देरी को लेकर कुमारस्वामी पर भाजपा हमलावर है. इसलिए किसानों की समस्याओं पर चर्चा के लिए उन्होंने किसान समूह के प्रतिनिधियों और प्रगतिशील किसानों से मुलाकात की. करीब तीन घंटे तक किसानों की बात सुनने के बाद उन्होंने बैठक में मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘15 दिन में हम लोग एक फैसले पर पहुंच जाएंगे. इन 15 दिनों में इसे पूरी तरह से लागू कर दिया जाएगा. चाहे जो भी मुश्किल आए, हमारी सरकार वित्तीय अनुशासन बनाए रखने और किसानों को बचाने के लिए प्रतिबद्ध है.’’

कर्नाटक में मंत्रालयों को लेकर टकराव के बीच सीएम कुमारस्वामी लेंगे ये बड़ा फैसला

कुमारस्वामी ने कहा कि वह और उप मुख्यमंत्री जी परमेश्वर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ इस मुद्दे पर चर्चा करेंगे. मुख्यमंत्री ने कहा कि राहुल गांधी भी किसानों की कर्ज माफी के लिए प्रतिबद्ध हैं. वहां मौजूद लोगों से उन्होंने कहा, ‘‘मैं कर्ज की रकम का आकलन कर रहा हूं. चाहे वह हजारों करोड़ रुपए की रकम क्यों नहीं हो, आपको बचाना ही हमारी सरकार की जिम्मेदारी है.’’

‘कांग्रेस की कृपा से हूं’ पर कुमारस्वामी की सफाई, कहा- बीजेपी की साजिश में मत फंसिए

बैठक में परमेश्वर, विधानसभा में विपक्ष के उपनेता गोविंद काराजोला (भाजपा) और राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारी शामिल थे. कुमारस्वामी ने यह भी कहा कि वह दो – तीन दिन में राष्ट्रीयकृत बैंकों के प्रतिनिधियों की बैठक बुलाएंगे और उनकी ओर से किसानों को दिए जाने वाले कर्ज के बारे में सूचना मांगेंगे.

कर्नाटक में विभागों के बंटवारे पर कांग्रेस और जेडीएस में अब भी नहीं बनी बात

पिछले सप्‍ताह विधान सभा में विश्‍वास मत हासिल करने के बाद से ही कुमारस्‍वामी लगातार किसानों का कर्ज माफ करने की बात कर रहे हैं. हालांकि, कांग्रेस के साथ विभागों के बंटवारे को लेकर पेंच फंसने से यह फैसला टलता जा रहा है.